अन्य राज्य

राजस्थान सियासी संकट के बीच मध्यप्रदेश में हो गया मंत्रियों के विभागों का बटवारा, ये रही लिस्ट

Published

on

मध्य प्रदेश: आखिरकर 11 दिनों बाद मंत्रिपरिषद का विस्तार कर शामिल किये गए 28 मंत्रियों के बिच आज विभागों का बटवारा संपन्न हो गया. भोपाल में मंत्रियों के विभागों के बंटवारा की प्रक्रिया रविवार से ही शुरू हो गई थी. लेकिन फाइनल सूचि सोमवार को सामने आई. मंत्रिमंडल बटवारे में कई अहम विभागों के नाम पर फंस रहे पेच के अटकलों के बिच आज जब सूचि जारी हुई तो गृह मंत्रालय के साथ स्वास्थ्य विभाग की जिम्‍मेदारी संभाल रहे नरोत्तम मिश्रा के पास से स्वास्थ्य मंत्रालय का जिम्मा ले लिया गया. वे अब गृह मंत्रालय के अलावा संसदीय कार्य और कानून और न्याय मंत्रालय का जिम्मा संभालेंगे. जबकि स्वास्थ्य मंत्रालय की जिम्‍मेदारी सिंधिया समर्थक डॉ. प्रभुराम चौधरी को दी गई है.

वहीं, राज्य में शिवराज सरकार की वापसी में अहम किरदार मानी जा रहीं यशोधरा राजे सिंधिया को खेल और युवा कल्याण मंत्रालय के साथ ही तकनीकी शिक्षा, स्किल डेवलपमेंट और रोजगार मंत्रालय की जिम्मेदारी दी गई है. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने खुद अपने पास सामान्य प्रशासन, जनसंपर्क, नर्मदा घाटी विकास, विमानन सही ऐसे विभाग रखे हैं, जो किसी अन्य मंत्री के पास नहीं हैं.

शिवराज सरकार में कैबिनेट मंत्री और उनके विभाग

नरोत्तम मिश्रा- गृह, जेल, संसदीय कार्य और विधि
गोपाल भार्गव- लोक निर्माण, कुटीर और ग्रामोद्योग
तुलसी राम सिलावट- जल संसाधन, मछुआ कल्याण और मत्स्य विकास
विजय शाह- वन
जदगीश देवड़ा- वाणिज्यिक कर, वित्त, योजना आर्थिक और सांख्यिकी
बिसाहू लाल सिंह- खाद्य नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण
यशोधरा राजे सिंधिया- खेल एवं युवा कल्याण, तकनीकी शिक्षा कोशल विकास एवं रोजगार
भूपेंद्र सिंह- नगरीय विकास एवं आवास
मीना सिंह मांडवे- आदिम जाति कल्याण, अनुसूचित जाति कल्याण
कमल पटेल- किसान कल्याण एवं कृषि विकास
एंदल सिंह कंषाना- लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी
गोविंद सिंह राजपूत- राजस्व, परिवहन
बृजेंन्द्र प्रताप सिंह- खनिज साधन, श्रम
विश्वास सारंग- चिकित्सा शिक्षा, भोपाल गैस त्रासदी राहत एवं पुनर्वास
इमरती देवी- महिला एवं बाल विकास
प्रभुराम चौधरी- लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण
महेंद्र सिंह सिसौदिया- पंचायत और ग्रामीण विकास
प्रद्युम्न सिंह तोमर- ऊर्जा
प्रेम सिंह पटेल- पशुपालन, सामाजिक न्याय एवं नि:शक्तजन कल्याण
ओम प्रकाश सकलेवा- सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम, विज्ञान और प्रौद्योगिकी
उषा ठाकुर- पर्यटन, संस्कृति, अध्यात्म
अरविन्द भदौरिया- सहकारिता, लेक सेवा प्रबंधन
मोहन यादव- उच्च शिक्षा
हरदीप सिंह डंग- नवीन एवं नवकरणीय ऊर्जा, पर्यावरण
राजवर्धन सिंह प्रेम सिंह दत्तीगांव- औद्योगिक नीति एवं निवेश प्रोत्साहन

शिवराज सरकार के राज्यमंत्रीयो में किसकों कौन विभाग?

भरत सिंह कुशवाहा- उद्यानिकी एवं खाद्य प्रसंस्करण (स्वतंत्र प्रभार), नर्मदा घाटी विकास
इन्दर सिंह परमार- स्कूल शिक्षा (स्वतंत्र प्रभार), सामान्य प्रशासन
रामखेलावन पटेल- पिछड़ा वर्ग एवं अल्पसंख्यक कल्याण (स्वतंत्र प्रभार), विमुक्त घुम्मकड़ एवं अर्धघुम्मकड़ जनजाति कल्याण (स्वतंत्र प्रभार), प्रचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग
राम किशोर (नानो) कांवरे- आयुष (स्वतंत्र प्रभार), जल संसाधन
बृजेंद्र सिंह यादव- लोक स्वास्थ्य एवं यांत्रिकी
गिर्राज डंण्डौतिया- किसान कल्याण तथा कृषि विकास
सुरेश धाकड़- लोक निर्माण विभाग
ओपीएस भदौरीय- नगरीय विकास एवं आवास

मालूम हो कि इससे पहले शनिवार को जब मंत्रिमंडल के बिच बटवारे को लेकर सीएम शिवराज सिंह चौहान से सवाल किया गया था. तो उन्होंने कहा था कि वह अपने मंत्रियों को विभागों का आवंटन कल यानि रविवार को करेंगे. लेकिन रात में लिस्‍ट जारी नहीं की जा सकी. मंत्रियों को शपथ लेने के बाद भी विभाग आवंटन न होने पर पूछे गये सवाल के जवाब में चौहान ने मुस्कराते हुए संवाददाताओं को यहां कहा, ‘‘वो मेरा काम है. अच्छा आज ग्वालियर में कह रहा हूं. कह दूं. कल कर दूंगा.’’

गौरतलब है कि मध्य प्रदेश में दो जुलाई को चौहान ने मंत्रिपरिषद का विस्तार कर 28 मंत्रियों को शामिल किया गया था. ख़ास बात यह है कि नए मंत्रियों की लिस्ट में 12 ज्योतिरादित्य सिंधिया समर्थको का भी नाम है. जबकि दो सिंधिया समर्थक तुलसी सिलावट और गोविन्द सिंह राजपूत पहले से ही मंत्री है. यानी कुल 22 बागियों में से 14 बागी मंत्री बने हैं.

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

अन्य राज्य

Lockdown: महाराष्ट्र के बाद तमिलनाडु में भी 31 अगस्त तक बढ़ा, ये है गाइडलाइन्स

Published

on

By

Lockdown in Tamilnadu: देशभर में कोरोना वायरस के तेजी से बढ़ते मामलों के बिच पहले महाराष्ट्र और अब तमिलनाडु में भी उसी तर्ज पर लॉकडाउन के अवधि को बढ़ा दिया गया है. तमिलनाडु में लॉकडाउन को 31 अगस्त तक बढ़ा दिया गया है. इस दौरान रविवार को प्रदेश में पूरी तरह से लॉकडाउन लागू रहेगा. हालाँकि इस दौरान कई चीजों पर लगी पाबंदियों को हटाया भी गया है. बता दें कि इससे पहले बुधवार रात को देश में कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित राज्य महाराष्ट्र में भी राज्य सरकार ने लॉकडाउन (Lockdown) को 31 अगस्त तक बढ़ा दिया है.

तमिलनाडु में इस लॉकडाउन एक्सटेंशन(Lockdown Extension) के दौरान वैसे संस्थान जो मौजूदा वक्त में 50 फीसदी स्टाफ के साथ ऑफिस में काम कर रहे हैं. उन्हें यह संख्या 75 फीसदी तक करने की छूट दी गई है. राज्य सरकार ने इसको लेकर जारी किये गए नए एडवाइजरी में बताया है कि इस लॉकडाउन में खासकर सख्ती सिर्फ कंटेंमेट जोन में लागू की गई है.

राज्य सरकार की ओर से जारी किये गए एडवाइजरी में कहा गया है कि एक अगस्त से बिना एसी वाले होटलों में 50 फीसदी कैपेसिटी के साथ लोगों को खाना खिलाया जा सकता है. हालांकि इस दौरान होटल प्रबंधन को सोशल डिस्टेंसिंग सुनिश्चित करने की हिदायत दी गई है. अगर समय की बात करें तो सुबह छह बजे से शाम सात बजे तक होटल में खाना खाने की छूट होगी. जबकि रात नौ बजे तक होम डिलीवरी भेजा जा सकेगा. इसके बाद होटल संचालन करने पर रोक लगाईं गई है.

इसके अलावा धार्मिक स्थलों का जिक्र करते हुए राज्य सरकार ने एडवाइजरी में बताया है कि सभी मंदिर, मस्जिद और चर्च, जिनकी रेवेन्यू 10,000 से कम है वो लोगों के लिए खोले जा सकते हैं. हालांकि इस दौरान उन्हें सभी मानक संचालन प्रक्रियाओं (SOP) को फॉलो करना होगा. जिसमे मास्क पहनने से लेकर सोशल डिस्टेंसिंग तक के तमाम एहतियाती कदम शामिल है.

सूबे की पलानीस्वामी सरकार ने लॉकडाउन को लेकर जारी गाइडलाइन्स में कहा है कि सब्जी की दुकानें शाम सात बजे तक खोली जा सकेंगी. जबकि फर्नीचर, टैक्सटाइल और अन्य अकेली दुकानों को ही इसी वक़्त तक खोलने की इजाजत मिलेगी. जबकि इस दौरान शौपिंग मॉल्स पर पाबंदी जारी रहेगा.

पिछले 24 घंटे में कोरोनावायरस के रिकॉर्ड तोड़ नए मामले

भारत में कोरोना वायरस का कहर दिनोंदिन कम होने के सिवाय बढ़ते ही जा रहा है. गुरुवार को कोरोनावायरस ने देश में नए मामले के अब तक के सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए है. पिछले 24 घंटे में 52 हजार से भी अधिक मामले सामने आये है. जबकि इतने ही समय में 775 मरीजों की इस वायरस के चपेट में आने से मौत हुई है.

यह भी पढ़ें: कोरोना ने तोड़े अब तक के सारे रिकॉर्ड, पिछले 24 घंटे में 52,000 से भी अधिक मामले

Continue Reading

अन्य राज्य

लालू यादव की कोविड-19 रिपोर्ट निगेटिव, 5 दिन बाद फिर होगी जांच

Published

on

  • रांची के रिम्स में बीते शनिवार को लालू यादव (Lalu Prasad Yadav) का लिया गया था कोरोना सैंपल
  • कोरोना रिपोर्ट निगेटिव आने से डॉक्टरों ने ली राहत की सांस

राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव की कोविड-19 टेस्ट रिपोर्ट (lalu yadav covid 19 report) आ गई है। उन्‍हें कोरोना वायरस संक्रमण नहीं हुआ है। वे अब पूरी तरह से सुरक्षित हैं। बीते रविवार को झारखंड की राजधानी रांची के रिम्‍स की ओर से जारी किए गए जांच रिपोर्ट में बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव कोरोना निगेटिव (corona negative) मिले हैं।

वहीं रिम्‍स में उनके साथ रह रहे एक सेवादार में कोविड-19 संक्रमण की पुष्टि की गई है। ऐसे में आरजेडी सुप्रीमो लालू यादव अब भी खतरे से ज्यादा दूर नहीं कहे जा सकते। मिली जानकारी के अनुसार यह सेवादार लगातार लालू यादव के आसपास था। अगर सेवादार कोविड-19 पॉजिटिव (Lalu Yadav Corona Negative) मिला, तो 3-4 दिनों बाद दोबारा लालू प्रसाद यादव की कोविड-19 टेस्ट की जाएगी।

बता दें कि, रांची स्थित रिम्स (RIIMS) में भर्ती बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू यादव के पेइंग वार्ड के बगल में ही कोरोना वार्ड और आइसोलेशन वार्ड बनाया गया है. इसे लेकर लालू यादव (Lalu Prasad Yadav) के परिवार ने कई बार अस्पताल से शिकायत कर चुके हैं. आरजेडी सुप्रीमो लालू यादव पिछले एक सप्ताह से रांची के रिम्स में भर्ती है. मिली जानकारी के अनुसार लालू यादव दिल की बीमारी और शुगर (Diabetes) से पीड़ित हैं. उन्हें किडनी संबंधी भी बीमारी है जिसका इलाज झारखंड के रिम्स (RIIMS) में चल रहे हैं.

झारखंड में कोरोना का कहर जारी-

झारखंड में कोरोना वायरस संक्रमण (Corona virus cases in Jharkhand) का कहर काफी तेजी से बढ़ता जा रहा है। पिछले 24 घंटों के दौरान राज्य में कोरोना के कुल 553 नए केस सामने आए। जबकि इस गंभीर महामारी के चलते 5 लोगों की मौत हो गई।

Continue Reading

अन्य राज्य

बिहार और असम में बाढ़ ने मचाई तबाही, लाखों लोग बेघर, अब तक 20 लोगों की मौत

Published

on

Bihar News: औसत से अधिक बारिश ने असम और बिहार में एख बार फिर से कहर बरपा दिया है जहां लाखों लोग तेज बारिश और बाढ़ (Flood) की चपेट में पिछले कई दिनों से फंसे हुए हैं. केंद्रीय जल आयोग के चेयरमैन ने मीडिया से खास बातचीत में बताया कि बिहार (Bihar Flood) के लगभग 9 और असम के करीब 18 जिलों में तेज बारिश और बाढ़ के पानी से हाहाकार मचा हुआ है.

बता दें कि, असम और बिहार (Flood in Bihar & Assam) में आई इस भयंकर बाढ़ ने लाखों लोगों को घर से बेघर कर दिया है. देशभर में काफी तेजी से फैलते कोरोना वायारस संक्रमण के दौरान आए इस गंभीर आपदा ने लोगों की मुश्किलें और भी बढ़ा दी हैं. मीडिया से इसपर बातचीत करते हुए केंद्रीय जल आयोग के चेयरमैन आरके जैन ने कहा कि बिहार और असम में बाढ़ और तेज बारिश (Heavy Rain & Flood) से हालत काफी चिंताजनक है. अगर जल्द ही कोई कदम नहीं उठाया गया तो यह विकराल रुप भी ले सकता है.

गोरखपुर में हाहाकार

मिली जानकारी के अनुसार, गोरखपुर में सरयू, रोहिन और राप्ती में काफी तेजी से बढ़ते जलास्तर कहर बरपाने लगी है। गोरखपुर (Gorakhpur) के कुछ इलाकों पर बांधों पर दबाव भी काफी तेज हो गया है। बता दें कि जिले के कुल 63 गांव बाढ़ के पानी में पूरी तरह घिर गए हैं। प्रभावित गांववासियों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा हैं।

उत्तराखंड में तेज बारिश और बाढ़ की चेतावनी

भारतीय मौसम विभाग ने उत्तराखंड में 28 और 29 जुलाई को भारी बारिश और तुफान के लिए ऑरेंज अलर्ट (Orange Alert) जारी किया है। विज्ञान केंद्र के निदेशक बिक्रम सिंह ने बीते रविवार को मीडिया से खास बातचीत में बताया कि, आज यानी 27 जुलाई को ऊधमसिंह नगर, नैनीताल और चंपावत जिलों में तेज बारिश (Heavy Rain) हो सकती है। वहीं 28 जुलाई को राज्य के बागेश्वर, नैनीताल, पिथौरागढ़, चंपावत, ऊधमसिंह और पौड़ी नगर में भारी बारिश हो सकती है। प्रदेश (Uttarakhand Flood) में भारी बारिश के चलते 109 सड़कों को कुछ दिनों के लिए बंद कर दिया गया हैं।

Continue Reading

Politics

मध्यप्रदेश में उपचुनाव से पहले कांग्रेस को एक और झटका, मांधाता विधायक ने इस्तीफा दिया

Published

on

By

मध्‍य प्रदेश में उप चुनाव की सियासी सरगर्मियों के बिच कांग्रेस पार्टी को फिर से एक बड़ा झटका लगा है. इस बार कांग्रेस छोड़ बीजेपी का दामन थामने वाले मांधाता सीट से नारायाण पटेल निकले. उनके इस्तीफा देने से पहले ही प्रदेश के सियासी गलियारों में इसकी चर्चा तेज हो गई थी. पार्टी के कई भी बड़े नेताओ को इस बात की इनपुट मिल गई थी कि नारायण बीजेपी में शामिल हो सकते है. और अंततः वही हुआ. बता दें कि नारायण पटेल के इस्तीफे के साथ ही पिछले 4 महीनों में कांग्रेस छोड़ बीजेपी में जाने वाले विधायकों की संख्या 25 हो गई है.

2018 विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के टिकट पर मांधाता सीट से विधायक चुने गए पटेल ने अपना इस्तीफा प्रोटेम स्पीकर रामेश्वर शर्मा को सौंप दिया. प्रोटेम स्पीकर ने उनका इस्तीफा स्वीकार भी कर लिया है. कांग्रेस से इस्‍तीफा देने के बाद उन्‍होंने सीएम शिवराज सिंह चौहान से मुलाक़ात की. इसके बाद शाम को उन्‍होंने भारतीय जनता पार्टी की सदस्‍यता ली. नारायण पटेल के बीजेपी में एंट्री के वक़्त पार्टी के प्रदेश इकाई के अध्‍यक्ष वीडी शर्मा, शिवराज सिंह सहित प्रदेश बीजेपी के कई दिग्गज नेता मौजूद रहे.

भाजपा में शामिल होने के बाद मीडिया से बातचीत में पटेल ने कहा कि वे क्षेत्र के विकास के लिए भाजपा में शामिल हुए हैं. हालाँकि बुधवार को कांग्रेस विधायकों के लगातार पार्टी छोड़कर जाने से परेशान पार्टी नेता उस समय सहम गए थे जब खबर उड़ी थी कि खंडवा जिले के मांधाता विधायक नारायण पटेल भाजपा नेताओं के संपर्क में हैं. उनसे मोबाइल से भी किसी कांग्रेस नेता का संपर्क नहीं हो पा रहा था तो नेताओं की धड़कनें ज्यादा बढ़ गईं और उनके स्वजनों से संपर्क कर नारायण पटेल के बारे में जानकारी जुटाई गई.

रिपोर्ट्स बताते है कि कांग्रेस के मांधाता विधायक नारायण पटेल के बारे में पार्टी नेताओं को बुधवार को सूचना दी गई कि उनसे संपर्क नहीं हो पा रहा है. वे भाजपा नेताओं के संपर्क में थे और इसके बाद आज न उनसे घर पर संपर्क हो पा रहा है, न मोबाइल से ही बात हो पा रही है. प्रदेश कांग्रेस कमेटी द्वारा अपने विधायकों से लगातार संपर्क में रहने की जिम्मेदारी संभाल रहे वरिष्ठ विधायक व पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा ने भी उनसे संपर्क करने का प्रयास किया मगर उनकी भी पटेल से बात नहीं हो सकी. बाद में कांग्रेस के एक बड़े नेता की बात हुई. लेकिन इसका कोई नतीजा नहीं निकल सका. और पटेल ने बीजेपी का दामन थाम लिया.

उल्लेखनीय है कि पिछले 4 महीनों में विधायकी और कांग्रेस पार्टी से 25 विधायकों ने इस्तीफा दे दिया है. बीते दो हफ़्तों में 3 विधायकों ने इस्तीफा दिया है. और इस तरह 2018 विधानसभा चुनाव में 114 सीटें जीतकर राज्य में सिंगल लार्जेस्ट पार्टी बनकर उभरी कांग्रेस के पास अब महज 89 विधायक ही बचे है. इस्तीफा देने वाले सभी विधायकों ने बीजेपी ज्वाइन किया है. और कयास लगाये जा रहे है कि ये सभी नेता बीजेपी के तरफ से उपचुनाव में उम्मीदवार होंगे. बहरहाल, नारायण पटेल के बाद ये साफ़ हो गया है कि अब राज्य में 27 सीटों पर विधानसभा उपचुनाव होंगे.

Continue Reading

Politics

राजस्थान सरकार ने फ़ोन टैपिंग मामले में गृह मंत्रालय को दिए रिपोर्ट में क्या कहा?

Published

on

By

राजस्थान के सियासत में हर दिन घटनाक्रम बदल रहे है. जहाँ एक तरफ प्रदेश में राजनितिक संकट गहराया है और गहलोत सरकार बचाने की कवायद है. वहीं दुसरे तरफ राज्य से लेकर केंद्रीय एजेंसियों के जांच को लेकर राजस्थान केंद्र में बना हुआ है. कुछ दिनों पहले विधायकों की खरीद-फरोख्त से जुड़े वायरल ऑडियो मामले में एक केंद्रीय मंत्री के नाम आने के बाद राज्य और केंद्र में टकराव के हालात बने हुए है. कथित ऑडियो टेप को लेकर गृह मंत्रालय ने राज्य सरकार से जवाब तलब किया था. जिस पर अब राजस्थान सरकार ने गृह मंत्रालय को रिपोर्ट भेज दी है.

राज्य सरकार द्वारा गृह मंत्रालय को भेजी गयी रिपोर्ट में फोन टेपिंग का आधार और इनपुट्स सहित अन्य कई पहलुओं के बारे में विस्तृत ब्यौरा दिया गया है. बतौर रिपोर्ट्स, राज्य सरकार ने अपनी रिपोर्ट में सफाई देते हुए पूरी प्रक्रिया में पारदर्शिता बरते जाने की बात कही है.

रिपोर्ट में राज्य सरकार ने साफ़ किया है कि इस प्रकरण में केंद्रीय मंत्री या किसी राजनीतिक व्यक्ति का फोन टेप नहीं किया गया है. इसके साथ ही राज्य ने यह भी स्पष्ट किया है कि इस प्रकरण में केंद्रीय मंत्री या किसी राजनीतिक व्यक्ति का फोन टेप नहीं किया गया है.

इस सब के बीच वायरल ऑडियो मामले में राजस्थान एसओजी ने भी जांच का रफ़्तार तेज कर दिया है. दो दिन पहले एसओजी ने दिल्ली स्थित केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत के निवास पर एक नोटिस भेजकर पूरे मामले की जाँच में सहयोग की अपील की थी. लेकिन केंद्रीय मंत्री शेखावत ने ऑडियो की प्रमाणिकता पर ही सवाल उठाते हुए वॉइस सैंपल देने से इंकार कर दिया था.

क्या है पूरा मामला?

बीते हफ्ते मरुधरा की सियासी हलचल उस वक़्त भूचाल में तब्दील हो गई थी. जब 16 जुलाई को विधायकों की खरीद-फरोख्त से जुड़े तीन ऑडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गए. वायरल ऑडियो में संजय जैन, केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत और कांग्रेस विधायक भंवरलाल शर्मा का नाम सामने आया था. जिसके बाद कांग्रेस के चीफ व्हिप महेश जोशी ने भंवरलाल शर्मा, गजेंद्र सिंह और संजय जैन के खिलाफ एसओजी में शिकायत दी थी. शिकायत मिलने के बाद एसओजी ने मामले में दो एफआईआर दर्ज किया था.

पूरे मामले में दो एफआईआर दर्ज करने के बाद जांच के लिए 18 जुलाई को एसआईटी का गठन कर दिया गया. पूरे मामले की तहकीकात क्राइम ब्रांच और एटीएस-एसओजी की टीमें संयुक्त रूप से कर रही है.

Continue Reading

अन्य राज्य

MP उपचुनाव को लेकर कमलनाथ का कॉन्फिडेंस, बोलें- अगली बैठक राजभवन में CM पद की शपथ लेने के बाद होगी

Published

on

By

मध्यप्रदेश में भले चार महीनों के अन्दर कांग्रेस के 24 विधायकों ने पाला बदलकर बीजेपी की सदस्यता ले ली हो. लेकिन प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ इसको लेकर चिंतित नजर नहीं आ रहे है. कम से कम आज कांग्रेस द्वारा बुलाई गई पार्टी विधायक दल के बैठक के दौरान उनके दिए बयान से ऐसा ही लगता है.

सूबे में उपचुनाव की सियासी सरगर्मियों के बिच सोमवार को कांग्रेस विधायक दल की बैठक में पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि अगली विधायक दल की बैठक राजभवन में शपथ ग्रहण के बाद होगी. पीसीसी अध्यक्ष कमलनाथ का ये बयान पूर्व कैबिनेट मंत्री जीतू पटवारी ने बैठक के बाद मीडिया के साथ साझा किया. जिसके बाद से सूबे का सियासी पारा चढ़ गया है.

बता दें की बीतें कुछ दिनों में ही कांग्रेस के दो विधायक बड़ा मलहरा से कांग्रेस विधायक प्रदुमन सिंह लोधी और नेपानगर की विधायक सुमित्रा देवी ने विधायकी से इस्तीफा देते हुए बीजेपी का दामन थाम लिया है. जबकि कई कांग्रेस विधायकों के पाला बदलने के कयास लगाये जा रहे है. बहरहाल, फिलाहल के परिस्थिति में प्रदेश में 24 के जगह अब 26 सीटों पर उपचुनाव होने तय है.

ऐसे में पूर्व सीएम कमलनाथ ने आज जो बयान दी है. इससे लगता है वो उपचुनाव को लेकर आश्वस्त है. कहा यह भी जा रहा है कि कमलनाथ के इस बयान के पीछें सर्वे में कांग्रेस को लगातार मिलती बढ़त है. हालाँकि, उपचुनाव के नतीजे के बाद ही यह स्पष्ट हो पायेगा कि कांग्रेस वापसी करने में सफल होती है या नहीं.

उल्लेखनीय है कि इससे कुछ दिनों पहले पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने न्यूज़ एजेंसी एएनआई से बातचीत में पार्टी विधायकों के इस्तीफे को लेकर कहा था कि मुझे कोई चिंता नहीं है. मुझे पता था कि कुछ लोग हैं जो छोड़ देंगे, इसलिए वे चले गए. यह आश्चर्य की बात नहीं है. वे(भाजपा) विधायकों को बुला रहे हैं और उन्हें पैसे और अलग-अलग पोस्ट दे रहे हैं. वो(बीजेपी) वहां(राजस्थान) में भी सौदा कर रहे है, संविधान का कोई मतलब नहीं रहा बस बोली बोलो और राजनीती करों.

Continue Reading

राजस्थान: SOG ने हॉर्स ट्रेडिंग मामले में राजद्रोह की धारा हटाई, केस ACB को ट्रान्सफर हुआ

Redmi 9 Prime भारत में लॉन्च, बजट रेंज में मिलेंगे पांच कैमरे

बिहार के डीजीपी ने सुशांत सिंह राजपूत मामले में मुंबई पुलिस की मंशा पर उठाए सवाल

5 अगस्त से खोले जाएंगे जिम-योग सेंटर, जानिए पूरी जानकारी

रिया चक्रवर्ती के वकील सतीश मानशिंदे ने कहा- नहीं हुईं एक्ट्रेस लापता…

कक्षा छठी से आठवीं तक के लिए वैकल्पिक शैक्षणिक कैलेंडर लॉन्च

Sushant Singh Case: दिशा सलियन से लेकर रिया चक्रवर्ती तक, मुंबई पुलिस ने किए ये बड़े खुलासे, जानिए

Corona in Bihar: बिहार में कोरोना का कहर जारी, अब तक 336 की मौत, संक्रमित मरीजों का आंकड़ा 60 हजार के करीब

मनीष शर्मा करेंगे Tiger 3 को डायरेक्ट, इस बार आमने-सामने होंगे जोया और टाइगर

एकता की XXX Uncensored पर बवाल, सेना की छवि खराब दिखाने पर सरकार सख़्त, रक्षा मंत्रालय ने एनओसी लेने को कहा

बॉलीवुड2 weeks ago

Sushant Singh Rajput को न्याय दिलाने के लिए शुरू हुआ डिजिटल प्रोटेस्ट

राजनीति3 days ago

राजस्थान ब्रेकिंग: विधायकों के खरीद फरोख्त से जुड़ी ऑडियो FSL जांच में सही पाई गई

फिल्म रिव्यु2 weeks ago

Dil Bechara movie Review: जिंदगी को दिल खोलकर जीना सिखाती है सुशांत की आखिरी फिल्म

उत्तर प्रदेश3 days ago

UP के बुलंदशहर में 25 जुलाई से लापता वकील की मिली लाश, प्रियंका बोलीं- UP में क्राइम-कोरोना कंट्रोल से बाहर

फिल्म रिव्यु1 week ago

सुशांत की आखिरी फिल्म Dil Bechara ने रिलीज होते ही IMDB Rating से बनाया नया रिकॉर्ड

बॉलीवुड6 days ago

भारत के सबसे महंगे वकीलों में से एक सतीश मनेशिंदे लड़ेंगे रिया चक्रवर्ती का केस

देश4 days ago

सुशांत सिंह सुसाइड मामले की जांच CBI को ट्रान्सफर करने पर बोले CM उद्धव- उनके फैन्स को बताना चाहता हूँ…

देश6 days ago

Sushant Suicide Case: महाराष्ट्र सरकार ने कहा CBI जांच की जरूरत नहीं

बॉलीवुड2 weeks ago

बड़ा खुलासा: सुशांत पर भी लगा था MeToo का आरोप, संजना सांघी ने बताई पूरी सच्चाई

बॉलीवुड6 days ago

FIR के बाद भी रिया चक्रवर्ती की गिरफ्तारी ना होने पर बिहार पुलिस का खुलासा…

ट्रेंडिंग न्यूज़