महाराष्ट्र

पहले सिंधिया, फिर पायलट, अगला कौन? पूछने वाले कांग्रेस नेता का ही अगला नंबर आया, पार्टी ने बाहर का रास्ता दिखाया

Published

on

राजस्थान के सियासी उठापटक के बिच पार्टी के पूर्व प्रवक्ता संजय झा को पार्टी लाइन से बाहर जाकर बयान देना भारी पड़ गया. कांग्रेस पार्टी ने पूर्व प्रवक्ता संजय झा (Sanjay Jha) को निलंबित कर दिया. पार्टी की महाराष्ट्र इकाई ने एक ट्वीट के जरिये इसकी जानकारी दी. संजय झा बीतें कई दिनों से राजस्थान में जारी सत्ता संघर्ष के बिच लगातार पार्टी के शीर्ष नेतृत्व पर पायलट को उचित स्थान न दिए जाने को लेकर एक के बाद एक ट्वीट कर रहे थे. ऐसे ही एक ट्वीट में उन्होंने कहा “पहले सिंधिया, फिर पायलट, अगला कौन?” 

सोमवार को ही संजय झा ने अपने एक ट्वीट में  सचिन पायलट की ‘मांग’ को जायज़ ठहराते हुए उनके प्रति अपना समर्थन जताया था. झा ने इसके पीछे राजस्थान विधानसभा के 2013 और 2018 के आंकड़ो को प्रस्तुत किया था. उल्लेखनीय है कि 2013 राजस्थान चुनाव में कांग्रेस पार्टी महज 21 सीटों पर सिमट गयी थी.

संजय झा के सस्पेंड होने के पीछे की वजह

कुछ दिनों पहले ही पार्टी प्रवक्ता के पद से हटाये गए संजय झा को लेकर जब मंगलवार रात को महाराष्ट्र कांग्रेस प्रमुख बालासाहेब थोराट की तरफ से साइन किये गये लेटर में निलंबन की खबर आई. तो यह खबर अप्रत्याशित नहीं थी. बीते कुछ दिनों में अगर संजय झा के अलग-अलग टीवी डिबेट और ट्वीटर पर बयान पर गौर किया जाये तो यह साफ़ दिख रहा था कि वे पार्टी के केंद्रीय नेतृत्व द्वारा लिए गए फैसले पर खुलकर लगातार सवाल खड़े कर रहे थे. इससे पहले ऐसे ही एक लेख के वजह से उन्हें पार्टी प्रवक्ता के पद से हटाया गया था.

संजय झा के निलंबन और बीते कुछ दिनों में पार्टी के रुख को लेकर किये सवाल पर एक वरिष्ट कांग्रेस नेता कहते है कि, “एनफ इज एनफ, पार्टी विरोधी गतिविधियों पर किसी भी हाल में समझौता नहीं किया जायेगा. ये नयी और आक्रामक कांग्रेस है”.

कहा जाता है कि ऐसे वक़्त में जब पार्टी दावा कर रही थी कि उन्होंने सचिन पायलट के लिए आखिरी वक्त तक दरवाजा खोले रखा और कांग्रेस नेतृत्व ने कम से कम आधा दर्जन बार सीधे पायलट से बात की. तो ऐसे में यह कहना की पायलट को उचित स्थान नहीं मिला. यह कहाँ से जायज है. बहरहाल, मंगलवार का दिन पायलट समर्थकों के लिए पूरी तरह निराश करने वाला रहा. पहले सचिन पायलट सहित साथी मंत्रियों को पद से बर्खास्त किया गया. फिर समर्थक विधायकों को नोटिस जारी किया गया. ऐसे में इस सब के बिच सबकी निगाहें बुधवार को सचिन पायलट के राजधानी दिल्ली में होने वाली प्रेस कांफ्रेंस पर है कि वो अगला कदम क्या उठाएंगे.

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

बॉलीवुड

यूज़र ने कसा अभिषेक बच्चन पर तंज कहा -पिता हॉस्पिटल में है, किसके भरोसे बैठ कर खाओगे’..

Published

on

By

अमिताभ बच्चन (Amitabh bachchan) और अभिषेक बच्चन (abhishek bachchan) फिलहाल नानावती हॉस्पिटल में एडमिट है। हालांकि ऐश्वर्या राय और आराध्या को हॉस्पिटल से कुछ दिनों पहले पहले छुट्टी मिल चुकी है वह दोनों अब पूरी तरह स्वस्थ है। इस बीच अभिषेक बच्चन का एक ट्वीट चर्चा का केंद्र बना हुआ है इसके रिप्लाई में एक फैन ने अभिषेक (abhishek) से पूछा कि आपके पिता इन दिनों हॉस्पिटल में एडमिट है आप किसके भरोसे बैठ कर खाओगे। यूजर कि इस बात का जवाब अभिषेक बच्चन ने बड़ी सौम्यता से दिया।

अभिषेक बच्चन (abhishek bachchan) ने इस ट्वीट के जवाब में लिखा -“फिलहाल तो लेट के खा रहे हैं। दोनों एक साथ अस्पताल में” लेकिन अभिषेक के इस ट्वीट के बाद भी यह बहस का सिलसिला नहीं थमा। अभिषेक के इस ट्वीट के जवाब में यूजर ने दोबारा लिखा- “जल्द ही ठीक हो जाइए। सर हर किसी की किस्मत में लेट कर खाना नहीं है”।बहरहाल अभिषेक ने यूजर के इस बात का जवाब भी बड़ी सौम्यता के साथ दिया उन्होंने आगे लिखा- “मैं दुआ करूंगा कि आप हमारी जैसी स्थिति में कभी ना आए। हमेशा स्वस्थ रहें और सुरक्षित रहें आपकी दुआओं का धन्यवाद मैम”।

हाल फिलहाल अभिषेक बच्चन (Abhishek bachchan tweet) का यह ट्वीट सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है। फैंस को अभिषेक बच्चन के सौम्यता से जवाब देने का तरीका बेहद पसंद आ रहा है।Read more :- आइसोलेशन वार्ड में अचानक गाना गाने लगे अमिताभ बच्चन, जानिए वजह

अमिताभ ने लगाई ट्रोल्स की क्लास

आपको बता दें कि अभिषेक बच्चन (Abhishek bachchan) से पहले अमिताभ बच्चन ने भी ट्रोल करने वालों को मुंहतोड़ जवाब दिया था। उन्होंने अपने ब्लॉग में अपनी बात रखते हुए लिखा था कि- “तुम्हारा पंगा अमिताभ बच्चन से पड़ा है”। फिलहाल अभिषेक बच्चन और अमिताभ बच्चन (amitabh Bachchan) हॉस्पिटल में है। लेकिन फिर भी वह सोशल मीडिया के जरिए अपने फैंस से जुड़े रहते हैं। और सोशल मीडिया पर पोस्ट शेयर करके अपनी भावनाएं और अनुभव प्रकट करते रहते है।

Continue Reading

बॉलीवुड

बांद्रा पुलिस ने निर्देशक महेश भट्ट को बुलाया, सुशांत मामले में की जाएगी पूछताछ..

Published

on

By

मुंबई पुलिस सुशांत सिंह राजपूत मामले (Sushant singh rajput case) में कई लोगों से पूछताछ कर रही है। पूछताछ की इस कड़ी में अब महेश भट्ट (mahesh bhatt) को भी जोड़ दिया गया है। बांद्रा पुलिस ने महेश भट्ट को स्टेशन बुलाया है। महेश भट्ट को आज दोपहर 12 बजे पुलिस स्टेशन में उपस्थित होने के लिए कहा गया था।

मुंबई पुलिस सुशांत सिंह राजपूत मामले (Sushant singh rajput case) में लोगों से पूछताछ कर रही है। इसके लिए अब महेश भट्ट (Mahesh bhatt)को बांद्रा पुलिस स्टेशन बुलाया गया है। महेश भट्ट को आज दोपहर 12 बजे पुलिस स्टेशन में उपस्थित होने के लिए कहा गया था।

आपको बता दे कि रविवार को, महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने कहा था कि महेश भट्ट (mahesh bhatt) और करण जौहर (Karan johar) के मैनेजर से सुशांत आत्महत्या मामले में पूछताछ की जाएगी। बाद में यह कहा गया कि करण के मैनेजर नहीं बल्कि धर्मा प्रोडक्शन के सीईओ अपूर्व मेहता को बयान दर्ज करने के लिए बुलाया गया है। अब जब महेश भट्ट को पुलिस स्टेशन बुलाया गया है। तो यह देखना बेहद अहम होगा कि सुशांत आत्महत्या मामले की गुत्थी सुलझती है या अभी और उलझती है।

महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख का बड़ा बयान

एएनआई (ANI)  से बात करते हुए महाराष्ट्र के गृह अनिल देशमुख ने सुशांत मामले में फिल्म निर्देशक महेश भट्ट से सवाल करने की बात कही थी। उन्होंने कहा कि इस मामले में महेश भट्ट का बयान दर्ज किया जाएगा। साथ ही, अनिल देशमुख ने यह भी कहा है कि इस मामले में करण जौहर के मैनेजर से भी सवाल-जवाब किए जाएंगे। उनके अनुसार, अगर जरूरत पड़ी तो करण जौहर खुद भी मौजूद रह सकते हैं।लेकिन फिर बाद में यह बताया गया कि करण जौहर के मैनेजर नहीं बल्कि धर्मा प्रोडक्शंस के सीईओ अपूर्व मेहता का बयान दर्ज किया जाएगा।

वही दूसरी तरफ महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख के इस बयान के बाद, अभिनेत्री कंगना रनौत मुंबई पुलिस से नाराज़ हो गईं।

Continue Reading

महाराष्ट्र

अब महाराष्ट्र सरकार ने भी कम किया 1 से 12 तक का 25% पाठयक्रम

Published

on

महाराष्ट्र सरकार ने राज्य शिक्षा संशोधन और प्रशिक्षण परिषद द्वारा भेजे गए प्रस्ताव को मंजूरी दी है। इस प्रस्ताव मुताबिक कोविद-19 महामारी के बीच छात्रों पर पढ़ाई का बोझ कम करने के लिए कक्षा 1 से 12 के पाठ्यक्रम में 25 प्रतिशत तक कमी की जाएगी। महाराष्ट्र की शिक्षा मंत्री वर्षा गायकवाड़ ने शनिवार को इस बात का ऐलान किया।

शिक्षा मंत्री ने अपने एक बयान में कहा कि, “कोरोना कारण लंबे समय से स्कूल भौतिक रूप से नहीं खोले जा रहे ऐसे में सरकार छात्रों का बोझ शैक्षिक सत्र 2020-21 के लिए कम करना चाहती है। इसी को देखते हुए नए सत्र में 25 फीसदी तक पाठयक्रम घटाया गया है।” 

साथ ही उन्होंने यह भी स्पष्ट किया कि, पाठ्यपुस्तकों से हटाये जाने वाले अध्यायों की विस्तृत जानकारी महाराष्ट्र राज्य शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद (MSCERT) की वेबसाइट पर उपलब्ध कराई जाएगी। 

नया शैक्षिक सत्र 15 जून से शुरू हो चुका है लेकिन स्कूल अभी भी बंद हैं। इस दौरान पढ़ाई के लिए ऑनलाइन माध्यम के उपयोग से स्कूलों की पढ़ाई करवाई जा रही है।

इससे पहले कोरोना महामारी की हालात देखते हुए केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) द्वारा कक्षा 9 से 12 तक 30 प्रतिशत तक पाठ्यक्रम घटा दिया है। वहीं यूपी बोर्ड ने 9वीं से 12वीं के छात्रों के लिए 30 फीसदी पाठ्यक्रम कम कर दिया है। इसी के साथ गुजरात बोर्ड ने भी छात्रों के बोझ को हल्का करने के विए 9वीं से 12वीं तक का पाठ्यक्रम कम किया है। नया पाठ्यक्रम   सभी बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट पर मौजूद है।

Continue Reading

महाराष्ट्र

राज्य को परीक्षा कैंसिल करने का नहीं है अधिकार: UGC

Published

on

मुंबई. विश्वविद्यालय अनुदान आयोग ने शुक्रवार को बंबई हाई कोर्ट से कहा कि महाराष्ट्र सरकार को परीक्षा कैंसिल करने का अधिकार नहीं है. सेवानिवृत्त शिक्षक और पुणे से विश्वविद्यालय सीनेट के पूर्व सदस्य धनंजय कुलकर्णी की याचिका के जवाब में हलफनामा दाखिल किया गया. दरअसल एक याचिका में परीक्षाएं निरस्त करने की मांग सरकार के फैसले को चुनौती दी गई थी.


आपको बता दें कोरोना वायरस महामारी के चलते महाराष्ट्र सरकार ने फाइनल ईयर की परीक्षाएं निरस्त कर दी थी. साथ ही दलील दी थी कि उसे महामारी अधिनियम और आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत ऐसा करने का अधिकार है. इस बात पर विश्वविद्यालय अनुदान आयोग का कहना है कि उपरोक्त कानूनों को विश्वविद्यालय अनुदान आयुक्त अधिनियम जैसे विशेष कानून के वैधानिक प्रावधानों को निष्प्रभावी करने के लिए लागू नहीं किया जा सकता.


बता दें विश्वविद्यालय अनुदान आयोग के 29 अप्रैल और 6 जुलाई 2020 को जारी दिशा-निर्देशों के अनुसार सभी विश्वविद्यालयों को सितंबर माह तक फाइनल ईयर की परीक्षाएं आयोजित करने के लिए कहा गया है. यूजीसी ने अपने हलफनामे में यह भी कहा कि अंतिम वर्ष की परीक्षाएं रद्द करने या बिना परीक्षाओं के छात्रों को डिग्री प्रदान करने का महाराष्ट्र सरकार का फैसला सीधे तौर पर देश में उच्च शिक्षा के मानकों को प्रभावित करने वाला है. इसमें कहा गया कि परीक्षाओं के मानकों के नियमन के लिहाज से यूजीसी सर्वोच्च इकाई है. मुख्य न्यायाधीश दीपांकर दत्त की अध्यक्षता वाली खंडपीठ ने मामले में अगली सुनवाई के लिए 31 जुलाई की तारीख तय की है.


यूजीसी द्वारा लगातार फाइनल एयर की परीक्षाओं को लेकर जोर दिया जा रहा है. क्योंकि इसी के आधार पर विद्यार्थियों का प्लेसमेंट निर्भर करता है. यदि बिना परीक्षा लिए विद्यार्थियों को डिग्री दी जाएगी तो भविष्य में इस पर सवाल खड़े हो सकते हैं साथ ही विद्यार्थियों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है.

दिल्ली, राजस्थान, पंजाब, हरियाणा, महाराष्ट्र, ओडिशा, मध्य प्रदेश, पश्चिम बंगाल की सरकारें अपने क्षेत्राधिकार के अंतर्गत आने वाले विश्वविद्यालयों में सभी परीक्षाएं रद्द कर चुकी है. विश्वविद्यालय अनुदान आयोग ने जारी गाइडलाइंस को स्वीकार करने के लिए सभी राज्यों से अपील भी की है.

Continue Reading

महाराष्ट्र

Coronavirus in Mumbai: महाराष्ट्र की पहली महिला चुनाव आयुक्त नीला सत्यनारायण का कोरोना से निधन

Published

on





नीला सत्यनारायण, महाराष्ट्र की पहली महिला मुख्य चुनाव आयुक्त और प्रतिष्ठित लेखक, कवि, ने गुरुवार को मुंबई के सेवन हिल्स अस्पताल में covid-19 के सामने दम तोड़ दिया। उपचार के दौरान आज सुबह 4 बजे के करीब उन्होंने अंतिम सांस ली। उनकी उम्र 71 वर्ष थी।

वह महाराष्ट्र राज्य के चुनाव आयुक्त पद पर नियुक्त होने वाली पहली महिला अधिकारी थीं। चुनाव आयुक्त के रूप में उनके कामों की सराहना की जाती है। प्रशासकीय अधिकारी के रूप में उन्होंने 37 साल सेवा दी। नीला ने गृह विभाग, वन विभाग, सूचना एवं जनसंपर्क, समाजकल्याण, ग्राम विकास विभाग में विभिन्न पदों पर काम किया था।

नीला सत्यनारायण 1972 बैच की IAS अधिकारी थीं। उन्होंने कई किताबें लिखी थीं, और उन्होंने कुछ फिल्मों के लिए संगीत भी तैयार कर किए थे । सेवानिवृत्ति के बाद, उन्हें राज्य के मुख्य चुनाव आयुक्त के रूप में नियुक्त किया गया था।

नीला को मराठी साहित्य से बहुत लगाव था और उन्होंने 150 कविताएं भी लिखी थी। इसके अलावा अनेकों अखबारों में उनके लेख छपते थे। इसके अलावा उन्होंने कुछ मराठी और दो हिंदी फिल्मों में संगीत निर्देशक के रूप में काम किया था। नीला की कहानी पर बाबांची शाला नामक मराठी फिल्म भी बनी थी। इसमें संगीत का निर्देशन भी इन्होंने ही किया था। कोरोनावायरस महामारी के कारण आज उनकी मृत्यु हो गयी। 

आंकड़ों को देखा जाए तो देश में सबसे ज्यादा प्रभावित राज्य महाराष्ट्र में 2.75 लाख से अधिक कोरोना मामले सामने आये,और अब तक 10,928 जानी नुक़सान हुआ हैं। बुधवार को, राज्य में संक्रमण के कारण 7,975 ताजा मामले और 223 मौतें हुईं। अब तक 1.11 लाख कोरोना के सक्रिय मामले हैं। महाराष्ट्र में सप्ताहांत तक तीन लाख का आंकड़ा पार करने की उम्मीद है।

राज्य के अधिकारियों ने कहा कि गंभीर रोगियों को ऑक्सीजन बिस्तरों की क्षमता बढ़ाने के लिए एक टास्क फोर्स बनाने से लेकर मृत्यु दर को नियंत्रित करने में मदद करने के उपायों पर काम चल रहा है।

 


Continue Reading

महाराष्ट्र

Maharashtra HSC Result 2020 : महाराष्ट्र बोर्ड 12वीं क्लास का रिजल्ट हुआ जारी, 90.66% स्टूडेंट्स हुए पास

Published

on





महाराष्ट्र स्टेट बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एंड हायर सेकेंडरी एजुकेशन (MSBSHSE) ने महाराष्ट्र HSC कक्षा 12 का 2020 का परीक्षा परिणाम घोषित किया, जो गुरुवार (16 जुलाई) को दोपहर 1 बजे बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट पर घोषित हुआ। आधिकारिक घोषणा के बाद, परिणाम अब MSBSHSE की आधिकारिक वेबसाइटों: mahahsscboard.maharashtra.gov.in, mahresult.nic.in पर उपलब्ध हैं। HSC की परीक्षा 18 फरवरी 2020 से 18 मार्च 2020 के बीच कराई गई थी। जोकि लॉकडाउन शुरू होने से पहले ही हो गयी थी। 

बोर्ड के मुताबिक इस बार 12वीं की परीक्षा में 90.66% स्टूडेंट्स पास हुए हैं। पिछली बार की तरह इस बार भी कोंकण डिविजन का परिणाम सबसे बेहतर रहा, जबकि औरंगाबाद सबसे पीछे रहा है। कोंकण डिविजन ने 95.89% रिजल्ट के साथ पूरे प्रदेश में सबसे बेहतर प्रदर्शन किया। वहीं पुणे डिविजन 92.50% रिजल्ट के साथ दूसरे स्थान पर रहा है। औरंगाबाद डिविजन का रिजल्ट 88.18% रहा जो पूरे प्रदेश में सबसे कम है।

महाराष्ट्र के शिक्षा मंत्री वर्षा गायकवाड ने ट्वीट कर जानकारी दी थी कि रिजल्ट दोपहर 1 बजे जारी किया जाएगा, लेकिन बोर्ड ने करीब एक घंटे पहले ही रिजल्ट जारी कर दिया। बोर्ड से मिली जानकारी के मुताबिक इस बार 12वीं की परीक्षा में 90.66 फीसदी स्टूडेंट्स उत्तीर्ण हुए हैं। इनमें 93.88% लड़कियां शामिल हैं, जबकि लड़कों का पासिंग परसेंटेज 88.04% रहा। कोरोना वायरस के कारण बनीं स्थिति के कारण महाराष्ट्र बोर्ड ने इस साल मेरिट लिस्ट जारी नहीं करने का फैसला किया है। 

महाराष्ट्र बोर्ड ने रिजल्ट जारी करते हुए बताया कि इस बार की 12वीं की परीक्षा में कुल 90.66% स्टूडेंट्स पास हुए हैं। साइंस स्ट्रीम में कुल 5 लाख 69360 छात्र-छात्राओं ने परीक्षा दी थी, इनमें से 96.93% स्टूडेंट्स पास हुए हैं। इसी तरह आर्ट स्ट्रीम में कुल 4 लाख 81288 बच्चों ने परीक्षा दी, जिनमें से 82.63% बच्चे पास हुए हैं । कॉमर्स स्ट्रीम के रिजल्ट की बात करें तो इस स्ट्रीम में कुल 3 लाख 81498 बच्चे परीक्षा में सम्मिलित हुए और इनमें से 91.27% बच्चे पास हुए। 

पिछले वर्ष महाराष्ट्र बोर्ड 12वीं में 85.88 प्रतिशत स्टूडेंट्स पास हुए थे। 12वीं में भी लड़कियों का प्रदर्शन लड़कों से बेहतर रहा था। 90.25 प्रतिशत लड़कियां जबकि लड़के 82.40 प्रतिशत पास हुए थे। 4470 स्टूडेंट्स ने 90 फीसदी से अधिक अंक हासिल किए थे। कोंकर्ण जिले का सबसे अच्छा प्रदर्शन रहा था और नागपुर का सबसे खराब। स्ट्रीम वाइज पास प्रतिशत की बात करें तो आर्ट्स में 76.45 फीसदी, साइंस में 92.60 फीसदी और कॉमर्स में 88.28 फीसदी स्टूडेंट्स पास हुए थे।

कैसे देख सकते हैं, महाराष्ट्र स्टेट बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एंड हायर सेकेंडरी एजुकेशन  (MSBSHSE) 12वीं का 2020 रिजल्ट 

– परीक्षार्थी सबसे पहले बोर्ड की ऑफिशियल वेबसाइट mahahsscboard.in पर जाएं

– यहां होम पेज पर HSC कक्षा 2020 के रिजल्ट की लिंक को क्लिक करें

– नए पेज पर परीक्षार्थियों को नाम, रोल नंबर, जन्म तिथि सहित अन्य जानकारी भरकर सबमिट करना होगी

– ये जानकारी सबमिट करते ही रिजल्ट स्क्रीन पर डिस्प्ले हो जाएगा

– यहां परीक्षार्थी अपना रिजल्ट चेक कर सकेंगे। साथ ही डाउनलोड कर उसका प्रिंट आउट भी निकाल सकेंगे


Continue Reading

राजस्थान: SOG ने हॉर्स ट्रेडिंग मामले में राजद्रोह की धारा हटाई, केस ACB को ट्रान्सफर हुआ

Redmi 9 Prime भारत में लॉन्च, बजट रेंज में मिलेंगे पांच कैमरे

बिहार के डीजीपी ने सुशांत सिंह राजपूत मामले में मुंबई पुलिस की मंशा पर उठाए सवाल

5 अगस्त से खोले जाएंगे जिम-योग सेंटर, जानिए पूरी जानकारी

रिया चक्रवर्ती के वकील सतीश मानशिंदे ने कहा- नहीं हुईं एक्ट्रेस लापता…

कक्षा छठी से आठवीं तक के लिए वैकल्पिक शैक्षणिक कैलेंडर लॉन्च

Sushant Singh Case: दिशा सलियन से लेकर रिया चक्रवर्ती तक, मुंबई पुलिस ने किए ये बड़े खुलासे, जानिए

Corona in Bihar: बिहार में कोरोना का कहर जारी, अब तक 336 की मौत, संक्रमित मरीजों का आंकड़ा 60 हजार के करीब

मनीष शर्मा करेंगे Tiger 3 को डायरेक्ट, इस बार आमने-सामने होंगे जोया और टाइगर

एकता की XXX Uncensored पर बवाल, सेना की छवि खराब दिखाने पर सरकार सख़्त, रक्षा मंत्रालय ने एनओसी लेने को कहा

बॉलीवुड2 weeks ago

Sushant Singh Rajput को न्याय दिलाने के लिए शुरू हुआ डिजिटल प्रोटेस्ट

राजनीति3 days ago

राजस्थान ब्रेकिंग: विधायकों के खरीद फरोख्त से जुड़ी ऑडियो FSL जांच में सही पाई गई

फिल्म रिव्यु2 weeks ago

Dil Bechara movie Review: जिंदगी को दिल खोलकर जीना सिखाती है सुशांत की आखिरी फिल्म

उत्तर प्रदेश3 days ago

UP के बुलंदशहर में 25 जुलाई से लापता वकील की मिली लाश, प्रियंका बोलीं- UP में क्राइम-कोरोना कंट्रोल से बाहर

फिल्म रिव्यु1 week ago

सुशांत की आखिरी फिल्म Dil Bechara ने रिलीज होते ही IMDB Rating से बनाया नया रिकॉर्ड

बॉलीवुड6 days ago

भारत के सबसे महंगे वकीलों में से एक सतीश मनेशिंदे लड़ेंगे रिया चक्रवर्ती का केस

देश4 days ago

सुशांत सिंह सुसाइड मामले की जांच CBI को ट्रान्सफर करने पर बोले CM उद्धव- उनके फैन्स को बताना चाहता हूँ…

देश6 days ago

Sushant Suicide Case: महाराष्ट्र सरकार ने कहा CBI जांच की जरूरत नहीं

बॉलीवुड2 weeks ago

बड़ा खुलासा: सुशांत पर भी लगा था MeToo का आरोप, संजना सांघी ने बताई पूरी सच्चाई

बॉलीवुड6 days ago

FIR के बाद भी रिया चक्रवर्ती की गिरफ्तारी ना होने पर बिहार पुलिस का खुलासा…

ट्रेंडिंग न्यूज़