Featured

GDP के आंकड़ों पर रघुराम राजन की केंद्र को चेतावनी, बोले- ये आंकड़े अर्थव्यवस्था की तबाही का अलार्म है

Published

on

New Delhi. बीतें दो सालों से अर्थव्यवस्था की जो रफ़्तार धीमी होनी शुरू हुई. वो अब तक गति नहीं पकड़ पाई है. हाल ही में वर्ष 2020-21 की पहली तीमाही के आये जीडीपी आंकड़े भी इसी ओर इशारा करते है. अब भारतीय रिजर्व बैंक(RBI) के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन(Raghuram Rajan) ने इन आंकड़ों पर केंद्र सरकार को चेताया है. राजन ने केंद्र में सत्तासीन मोदी सरकार को सलाह दी है कि अगर स्थिति को अभी नहीं संभाला गया तो भारतीय अर्थव्यवस्था में और गिरावट आ सकती है. रघुराम राजन ने कहा है कि वर्ष 2020-21 की पहली तीमाही के जीडीपी के आंकड़े अर्थव्यवस्था की तबाही का अलार्म है. इसलिए सरकार को अलर्ट हो जाना चाहिए.

अपने लिंक्डइन पेज पर एक पोस्ट के जरिये मोदी सरकार को अर्थव्यवस्था की ओर ध्यान देने का सलाह देते हुए पूर्व आरबीआई गवर्नर ने कहा, ‘दुर्भाग्य से शुरुआत में जो गतिविधियां एकदम तेजी से बढ़ी थीं, अब फिर ठंडी पड़ गई हैं.’  राजन(Raghuram Rajan) ने अपने पोस्ट में कहा कि, ‘आर्थिक वृद्धि में इतनी बड़ी गिरावट हम सभी के लिए चेतावनी है. भारत की जीडीपी में 23.9 प्रतिशत की गिरावट आई है. जबकि कोरोना से सबसे अधिक प्रभावित देशों इटली में इसमें 12.4 प्रतिशत और अमेरिका में 9.5 प्रतिशत की गिरावट आई है. उन्होंने कहा कि इतने खराब जीडीपी आंकड़ों की एक अच्छी बात यह हो सकती है कि अधिकारी तंत्र अब आत्मसंतोष की स्थिति से बाहर निकलेगा और कुछ अर्थपूर्ण गतिविधियों पर ध्यान केंद्रित करेगा.

सरकार जो कदम उठा रही वो ‘आत्मघाती’

फिलाहल शिकॉगो विश्वविद्यालय में बतौर प्रोफेसर कार्यरत रघुराम राजन(Raghuram Rajan) ने कहा है कि सरकार भविष्य में प्रोत्साहन पैकेज देने के लिए संसाधनों को बचाने की रणनीति पर चल रही है, जो आत्मघाती है. सरकार सोच रही है कि वायरस पर काबू पाए जाने के बाद राहत पैकेज देंगे, लेकिन वे स्थिति की गंभीरता को कमतर करके आंक रहे हैं. तब तक अर्थव्यवस्था को बहुत नुकसान हो जाएगा.

इकॉनमी को मरीज की तरह देखने की जरूरत

लिंक्डइन पेज पर किये गए पोस्ट में पूर्व आरबीआई गवर्नर रघुराम राजन(Raghuram Rajan) ने कहा है कि यदि आप अर्थव्यवस्था को एक मरीज की तरह देखें तो उसे लगातार इलाज की जरूरत है. राहत पैकेज के बिना लोग खाना छोड़ देंगे, वे बच्चों को स्कूल से निकाल देंगे और उन्हें काम करने या भीख मांगने के लिए भेज देंगे, कर्ज लेने के लिए अपना सोना गिरवी रख देंगे, ईएमआई और मकान का किराया बढ़ता जाएगा. इसी तरह राहत के अभाव में छोटी और मझोली कंपनियांअपने कर्मचारियों को वेतन नहीं दे पाएंगी, उनका कर्ज बढ़ता जाएगा और अंत में वे बंद हो जाएंगी. इस तरह जब तक वायरस पर काबू होगा, तब तक इकोनॉमी बर्बाद हो जाएगी.

आर्थिक मदद को  ‘टॉनिक’ के तौर पर देखें

भारतीय रिजर्व बैंक(RBI) के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन ने कहा कि अब आर्थिक प्रोत्साहन को ‘टॉनिक’ के रूप में देखें. जब बीमारी समाप्त हो जाएगी, तो मरीज तेजी से अपने बिस्तर से निकल सकेगा. लेकिन यदि मरीज की हालत बहुत ज्यादा खराब हो जाएगी, तो प्रोत्साहन से उसे कोई लाभ नहीं होगा. राजन ने कहा कि वाहन जैसे क्षेत्रों में हालिया सुधार वी-आकार के सुधार (जितनी तेजी से गिरावट आई, उतनी ही तेजी से उबरना) का प्रमाण नहीं है। उन्होंने कहा, ‘यह दबी मांग है. क्षतिग्रस्त, आंशिक रूप से काम कर रही अर्थव्यवस्था में जब हम वास्तविक मांग के स्तर पर पहुंचेंगे, यह समाप्त हो जाएगी.’

रघुराम राजन(Raghuram Rajan) ने अपने पोस्ट में कहा कि महामारी से पहले ही देश की अर्थव्यवस्था में सुस्ती थी और सरकार की वित्तीय स्थिति पर भी दबाव था. ऐसे में अधिकारियों का मानना है कि वे राहत और प्रोत्साहन दोनों पर खर्च नहीं कर सकते. उन्होंने कहा, ‘यह सोच निराशावादी है. सरकार को हरसंभव तरीके से अपने संसाधनों को बढ़ाना होगा और उसे जितना संभव हो, समझदारी से खर्च करना होगा.’ इसके साथ ही रिज़र्व बैंक के पूर्व गवर्नर राजन ने सरकार से तत्काल राहत पैकेज देने और इसकी राशि बढ़ाने की मांग की है.

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

GDP के आंकड़ों पर रघुराम राजन की केंद्र को चेतावनी, बोले- ये आंकड़े अर्थव्यवस्था की तबाही का अलार्म है

10 सितंबर को जारी होगा JEE Main का रिजल्ट, जानिए JEE एडवांस परीक्षा की तारीख

भारतीय पहलवान राहुल अवारे को हुआ कोरोना, दीपक पूनिया को मिली अस्पताल से छुट्टी

इंग्लैंड ने जीती एक और T20 सीरीज, जोस बटलर की आंधी में उड़ी ऑस्ट्रेलियाई टीम

वर्चुअल रैली में CM नीतीश का RJD पर तंज, बोले- अब बिहार में घर-घर बिजली, लालटेन की जरूरत नहीं

आखिर क्यों दूसरे दिन की पूछताछ के लिए रिया समय से पहले पहुंची NCB ऑफिस

कैंसर के बीच फिल्म शमशेरा की शूटिंग पर वापस लौट रहे हैं संजय दत्त, जल्द शुरू करेगें शूटिंग

शिवसेना के मुखपत्र सामना में कंगना को कहा गया मेंटल औरत, केंद्र ने एक्ट्रेस को दी सिक्योरिटी

SIT टीम का NCB ने किया गठन, ड्रग्स मामले में रिया चक्रवर्ती की और बढ़ीं मुश्किलें

एक और ड्रग पैडलर को NCB ने लिया हिरासत में, सुशांत के दोस्त से हो सकती है पूछताछ

बॉलीवुड4 weeks ago

काम्या पंजाबी ने सुशांत और बहन की चैट शेयर करने पर रिया को लगाई फटकार, दिया मुँहतोड़ जवाब…

बॉलीवुड2 weeks ago

इन चार एक्ट्रेस के साथ रिलेशनशिप में रहे सुशांत, लेकिन हर लव स्टोरी का अंत रहा दर्दनाक

बॉलीवुड4 weeks ago

संजय राउत ने कहा- अंकिता और सुशांत का क्यों हुआ ब्रेकअप, इसकी भी हो जांच

कोरोना वायरस4 weeks ago

Breaking News: मशहूर शायर राहत इंदौरी कोविड-19 पॉजिटिव, ऑरबिंदो अस्पताल में भर्ती

बॉलीवुड4 weeks ago

Sushant Singh Case: फ्लैटमेट सिद्धार्थ पिठानी का पकड़ा गया सबसे बड़ा झूठ, सुसाइड से पहले सुशांत सिंह….

Featured1 week ago

रिया चक्रवर्ती के आरोपों पर सुशांत की बहन ने सबूतों के साथ दिया जवाब

बॉलीवुड4 weeks ago

अंकिता ने सुशांत की बहन को किया सपोर्ट; SC की सुनवाई पॉजिटिव हो, मांगी थी दुआ

बॉलीवुड1 week ago

रिया ने कहा- रिलेशनशिप में होने के बावजूद सुशांत की विधवा बनने को कोशिश कर रही हैं अंकिता

बॉलीवुड4 weeks ago

मुंबई ब्लास्ट से नाम जुड़े होने की वजह से संजय दत्त को अमेरिका का वीजा मिलना मुश्किल?

बॉलीवुड4 weeks ago

यूरोप ट्रिप पर एक पेंटिंग को देख बदल गए थे सुशांत : रिया चक्रवर्ती का दावा