जयपुर

BJP पर कांग्रेस विधायक का आरोप, बोले- मुझे दिया गया ऑफर, जितने पैसे लेने हो ले लो, लेकिन…

Published

on

राजस्थान में भले ही कांग्रेस के आपसी गुटबाजी के कारन सियासी संकट पैदा हुई हो. लेकिन इस सब के बिच गाहे-बगाहे बीजेपी का नाम आ ही जाता है. शुरुआत में खुद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बीजेपी पर आरोप लगाया था कि बीजेपी की तरफ से हमारी सरकार को अस्थिर करने के लिए कुछ विधायकों को करोड़ों रूपये के ऑफर दिए जा रहे हैं. लेकिन अब ऐसा आरोप लगाने वालों में कांग्रेस विधायक राजेंद्र गुडा का नाम भी जुड़ गया है.

बतौर रिपोर्ट्स, सोमवार को सीएम अशोक गहलोत के आवास पर कांग्रेस विधायक दल की बैठक में हिस्सा लेने पहुंचे कांग्रेस विधायक राजेंद्र गुडा ने कहा कि बीजेपी ने उन्हें पार्टी में शामिल होने का ऑफर दिया था. बीएसपी छोड़ कांग्रेस में शामिल हुए गुडा ने ये तो नहीं बताये की बीजेपी के तरफ से उन्हें कितनी राशि का लालच दिया गया था. लेकिन उन्होंने बताया कि पार्टी की तरफ से बैंक की चाबी हाथ में दे दी है और कहा है कि जितने पैसे लेने हो ले लो, लेकिन आ जाओ. कांग्रेस विधायक की माने तो बीजेपी पूरा प्रयास कर रही हैं कि विधायक उनके खेमें में आ जाए.

बता दें कि सोमवार को मुख्यमंत्री आवास पर कांग्रेस विधायकों की बैठक बुलाई गई थी. इसके लिए पार्टी द्वारा व्हिप भी जारी किया गया था. बताया गया कि जो विधायक इस बैठक में हिस्सा नहीं लेंगे, संभव है पार्टी पहले उनको कारन बताओ नोटिस जारी करेगी और बाद में संतोषजनक जवाब न मिलने पर ऐसे विधायकों को पार्टी से बाहर का रास्ता दिखाया जाएगा. पार्टी द्वारा बुलाये गए इस बैठक में बहुमत से अधिक की संख्या में पार्टी विधायक सहित बीटीपी के दो, माकपा के एक, राष्ट्रीय लोकदल के एक विधायक सहित अनेक निर्दलीय विधायक भी पहुंचे. इस दौरान मुक्यमंत्री अशोक गहलोत ने मीडिया के सामने इन विधायकों का परेड करवाकर शक्ति प्रदर्शन भी किया. 100 से अधिक विधायकों के एकजुट होने से सीएम गहलोत के चेहरे पर मुस्कान थी. सभी विधायकों ने मीडिया के सामने विक्ट्री साइन दिखाया. अब जब बहुमत से अधिक की संख्या में विधायक एकजुट हो गए तब राज्य पर सियासी संकट के बादल फ़िलहाल छटते हुए दिखाई दे रहे है.

करियर

RBSE 10th Result 2020: आज शाम 4 बजे जारी होगा 10वीं का रिजल्ट, ऐसे करें चेक

Published

on

राजस्थान बोर्ड (Rajasthan Board) के 10वीं के छात्रों का रिजल्ट का इंतजार आज खत्म होने जा रहा है। राजस्थान बोर्ड ऑफ सेकंडरी एजुकेशन (RBSE 10th result) आज शाम 4 बजे 10वीं का रिजल्ट घोषित करने जा रहा है। प्रदेश के शिक्षा मंत्री गोविन्द सिंह डोटासरा ने बीते सोमवार को ट्वीट करके जानकारी दी है कि 10वीं का रिजल्ट आज यानी 28 जुलाई को शाम 4 बजे जारी किया जाएगा।

रिजल्ट जारी होने के बाद छात्र अपना रिजल्ट बोर्ड के आधिकारिक वेबसाइट पर चेक कर पाएंगे। बता दें कि छात्र अपने बोर्ड रोल नंबर (Roll Number) की सहायता से 10वीं का रिजल्ट चेक कर पाएंगे। इस साल स्टूडेंट्स के पास अपना रिजल्ट ऑफलाइन और ऑनलाइन (Online & Offline) दोनों माध्यम से चेक करने का ऑप्शन है।

मिली जानकारी के अनुसार, 10वीं के नतीजों की घोषणा खुद राज्य के शिक्षा मंत्री गोविन्द सिंह डोटासरा (Govind Singh Dotasra) करेंगे। शिक्षा बोर्ड के अध्यक्ष प्रो. डी.पी. जारोली ने बीते सोमवार को मीडिया से खास बातचीत में बताया कि इस साल कुल 11,79,830 छात्रों ने परीक्षा दी थी। शिक्षा संकुल स्थित सभागार में 10वीं का रिजल्ट शिक्षा मंत्री डोटासरा के द्वारा जारी किया जाएगा।

Continue Reading

Politics

राजस्थान सरकार ने फ़ोन टैपिंग मामले में गृह मंत्रालय को दिए रिपोर्ट में क्या कहा?

Published

on

By

राजस्थान के सियासत में हर दिन घटनाक्रम बदल रहे है. जहाँ एक तरफ प्रदेश में राजनितिक संकट गहराया है और गहलोत सरकार बचाने की कवायद है. वहीं दुसरे तरफ राज्य से लेकर केंद्रीय एजेंसियों के जांच को लेकर राजस्थान केंद्र में बना हुआ है. कुछ दिनों पहले विधायकों की खरीद-फरोख्त से जुड़े वायरल ऑडियो मामले में एक केंद्रीय मंत्री के नाम आने के बाद राज्य और केंद्र में टकराव के हालात बने हुए है. कथित ऑडियो टेप को लेकर गृह मंत्रालय ने राज्य सरकार से जवाब तलब किया था. जिस पर अब राजस्थान सरकार ने गृह मंत्रालय को रिपोर्ट भेज दी है.

राज्य सरकार द्वारा गृह मंत्रालय को भेजी गयी रिपोर्ट में फोन टेपिंग का आधार और इनपुट्स सहित अन्य कई पहलुओं के बारे में विस्तृत ब्यौरा दिया गया है. बतौर रिपोर्ट्स, राज्य सरकार ने अपनी रिपोर्ट में सफाई देते हुए पूरी प्रक्रिया में पारदर्शिता बरते जाने की बात कही है.

रिपोर्ट में राज्य सरकार ने साफ़ किया है कि इस प्रकरण में केंद्रीय मंत्री या किसी राजनीतिक व्यक्ति का फोन टेप नहीं किया गया है. इसके साथ ही राज्य ने यह भी स्पष्ट किया है कि इस प्रकरण में केंद्रीय मंत्री या किसी राजनीतिक व्यक्ति का फोन टेप नहीं किया गया है.

इस सब के बीच वायरल ऑडियो मामले में राजस्थान एसओजी ने भी जांच का रफ़्तार तेज कर दिया है. दो दिन पहले एसओजी ने दिल्ली स्थित केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत के निवास पर एक नोटिस भेजकर पूरे मामले की जाँच में सहयोग की अपील की थी. लेकिन केंद्रीय मंत्री शेखावत ने ऑडियो की प्रमाणिकता पर ही सवाल उठाते हुए वॉइस सैंपल देने से इंकार कर दिया था.

क्या है पूरा मामला?

बीते हफ्ते मरुधरा की सियासी हलचल उस वक़्त भूचाल में तब्दील हो गई थी. जब 16 जुलाई को विधायकों की खरीद-फरोख्त से जुड़े तीन ऑडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गए. वायरल ऑडियो में संजय जैन, केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत और कांग्रेस विधायक भंवरलाल शर्मा का नाम सामने आया था. जिसके बाद कांग्रेस के चीफ व्हिप महेश जोशी ने भंवरलाल शर्मा, गजेंद्र सिंह और संजय जैन के खिलाफ एसओजी में शिकायत दी थी. शिकायत मिलने के बाद एसओजी ने मामले में दो एफआईआर दर्ज किया था.

पूरे मामले में दो एफआईआर दर्ज करने के बाद जांच के लिए 18 जुलाई को एसआईटी का गठन कर दिया गया. पूरे मामले की तहकीकात क्राइम ब्रांच और एटीएस-एसओजी की टीमें संयुक्त रूप से कर रही है.

Continue Reading

जयपुर

Rajasthan Politics: हाईकोर्ट के आदेश पर चर्चा करने विधानसभा पहुंचे स्पीकर सीपी जोशी

Published

on

By

Rajasthan Politics: राजस्थान में सियासी घटनाक्रम हर पल, हर क्षण बदल रहे है. राजस्थान हाईकोर्ट का आदेश आने के बाद अब विधानसभा अध्यक्ष सीपी जोशी (CP Joshi) विधानसभा पहुंच गए हैं. सीपी जोशी विधानसभा के सचिव के साथ कोर्ट के आदेश पर चर्चा कर रहे हैं. उल्लेखनीय है कि मंगलवार को इस मामले को लेकर हाईकोर्ट में सुनवाई पूरी हो गई है और हाईकोर्ट ने सचिन पायल (Sachin Pilot) कैंप को फौरी तौर पर राहत देते हुए 24 जुलाई तक फैसला सुरक्षित रख लिया है. इस दौरान कोर्ट ने विधानसभा अध्यक्ष यानी स्पीकर सीपी जोशी को कोई भी कार्यवाही करने से रोका है.

सचिन पायलट और 18 विधायकों द्वारा याचिकाकर्ता की अयोग्यता नोटिस के खिलाफ याचिका पर हाईकोर्ट 24 जुलाई को आदेश दे सकता है. इस जानकारी के सामने आने के बाद लग रहा था कि राज्य में सियासी घटनाक्रम 24 जुलाई तक थम गए है. लेकिन हाई कोर्ट के इस आदेश के बाद से ही सूबे की सियासत में हलचल तेज हो गए है. दोनों ही खेमों में आगे के संभावित परिस्थितियों को लेकर मंथन हो रहा है.

Also Read: Rajasthan LIVE: बागी विधायकों के किस्मत पर हाई कोर्ट ने फैसला सुरक्षित रखा, 24 तक स्पीकर को कार्यवाही से रोका(Opens in a new browser tab)

इस तमाम सियासी उठापटक के बिच सचिन पायलट और उनके समर्थक विधायकों को लेकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत अब सॉफ्ट मूड में नजर नहीं आ रहे है. विधायक दल की बैठक में सीएम अशोक गहलोत ने बैठक में कहा, ‘सरकार कोविड से लड़ाई लड़ रही, दूसरी तरफ कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष रहे नेता और कुछ विधायक भाजपा के साथ मिलकर सरकार गिराने का षड्यंत्र कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि पार्टी से गद्दारी करने वाले लोग जनता के बीच जाकर मुंह नहीं दिखा पाएंगे. सत्य ही ईश्वर है, ईश्वर ही सत्य है, सत्य हमारे साथ है, इसलिए हर हाल में जीत हमारी ही होगी. सरकार पूरे 5 साल तक जनता की सेवा करेगी. सीपीएम भी हर हाल में कांग्रेस का ही समर्थन करेगी.’

मंगलवार को राजधानी जयपुर में प्रदेश कांग्रेस विधायक दल की बैठक में मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश की कांग्रेस सरकार पर किसी प्रकार का संकट नहीं है. राज्य सरकार पांच साल का अपना कार्यकाल पूरा करेगी. बतौर पार्टी प्रवक्ता, सीएम गहलोत ने कहा कि ‘सत्य की विजय होगी, सत्य ही ईश्वर है, ईश्वर ही सत्य है और सत्य हमारे हमारे साथ है.’ बता दें कि कांग्रेस विधायक दल की यह बैठक जयपुर दिल्ली मार्ग पर स्थित उसी फेयरमोंट होटल में हुई, जहां पिछले कुछ दिन कांग्रेस सरकार को समर्थन देने वाले विधायक ठहरे हुए है.

Continue Reading

जयपुर

डिप्टी CM और PCC अध्यक्ष पद से छुट्टी के बाद पायलट ने तोड़ी चुप्पी, बोलें- BJP ज्वाइन नहीं कर रहा हूं

Published

on

By

राजस्थान में प्रदेश अध्यक्ष और उपमुख्यमंत्री पद से छुट्टी के बाद से ही ऐसे कयास लगाये जा रहे थे कि सचिन पायलट बीजेपी ज्वाइन करने वाले है. लेकिन सचिन पायलट ने तमाम अटकलों पर विराम देते हुए न्यूज़ एजेंसी एएनआई से बातचीत में स्पष्ट कर दिया है कि वो बीजेपी में शामिल नहीं होंगे. बता दें कि राजस्थान कांग्रेस के प्रति बगावती रुख अख्तियार करने वाले सचिन पायलट को मंगलवार को प्रदेश अध्यक्ष और उपमुख्यमंत्री पद से हटा दिया गया था.

इंडिया टुडे के साथ इंटरव्यू के दौरान सचिन पायलट ने कहा है कि मुझपर आरोप लग रहे हैं कि मैं भाजपा के साथ मिलकर सरकार गिराना चाहता हूं. भाजपा से मिलकर सरकार गिराने की बात करना गलत है. उन्होंने कहा कि मैं अपनी ही पार्टी के खिलाफ ऐसा काम क्यों करूंगा.

पायलट ने कहा कि मैं अभी भी पार्टी में हूं. अभी माहौल शांत होने दीजिये. अभी तो 24 घंटे भी नहीं हुए है. आगे के कदम के लिए अपने समर्थकों के साथ बातचीत करूंगा. उन्होंने कहा कि मैं अभी भी कांग्रेस में हूं, भाजपा में नहीं जा रहा हूं. एनडीटीवी से बातचीत में पायलट ने कहा, ‘मुझे बीजेपी के साथ दिखाना पार्टी हाई कमान की नज़र में मेरी छवि ख़राब करने की कोशिश है’.

वहीं, इंडिया टुडे मैगजीन को दिए साक्षात्कार में मुख्यमंत्री पद की महत्वाकांक्षा को लेकर किये गए सवाल पर सचिन पायलट ने कहा, मैंने किसी भी विशेष ताकत की मांग नहीं की. मैं केवल इतना चाहता था कि सरकार अपने वादे पूरे करे. उन्होंने कहा कि मुझे विकास का काम करने का मौका नहीं दिया गया.

सीएम गहलोत पर आरोप लगाते हुए सचिन पायलट ने कहा है कि सत्ता में आने के बाद उन्होंने अपना कोई वादा पूरा नहीं किया. अफसरों को मेरे आदेश ना मानने को कहा गया. पायलट ने कहा कि मेरे पास कोई भी फाइल नहीं आती थी.

बागी विधायकों को नोटिस

इस सबके बिच कांग्रेस ने राजस्थान में बागी विधायकों के खिलाफ के खिलाफ करवाई शुरू कर दी है. जिसमे सचिन पायलट भी शामिल हैं. बागी विधायकों को अयोग्य घोषित करने की कार्रवाई शुरू की जा रही है, जिसके तहत पार्टी ने राजस्थान विधानसभा स्पीकर से उनकी विधानसभा सदस्यता को रद्द करने की कार्रवाई का आग्रह किया है. कांग्रेस की शिकायत पर स्पीकर ने पायलट सहित उनके समर्थक 19 विधायकों को नोटिस भेजा है. इन सभी विधायकों से 17 जुलाई तक जवाब मांगा गया है. 

Continue Reading

जयपुर

एक्शन के बाद बोलें पायलट- सत्य को पराजित नहीं किया जा सकता, ट्विटर बायो से ‘कांग्रेस’ हटाया

Published

on

By

कांग्रेस पार्टी द्वारा मंत्री और पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष पद से हटाए जाने के बाच सचिन पायलट की पहली प्रतिक्रिया सामने आई है. सचिन पायलट ने एक ट्वीट करके कहा है कि सत्य को परेशान किया जा सकता है, पराजित नहीं. इसके साथ ही पायलट ने अपने ट्वीटर बायो से पार्टी का जिक्र तक हटा दिया है.

सचिन पायलट के नए ट्विटर बायो इस तरह है- टोंक से विधायक | आईटी, दूरसंचार और कॉर्पोरेट मामलों के पूर्व मंत्री, भारत सरकार | कमीशन अधिकारी, प्रादेशिक सेना ही.

बता दें कि थोड़ी ही देर पहले सचिन पायलट को डिप्टी सीएम और प्रदेश अध्यक्ष पद से मुक्त कर दिया गया है. सचिन पायलट के साथ ही उनके करीबी कैबिनेट मंत्री रहे विश्वेंद्र सिंह और रमेश मीणा को भी हटा दिया गया है. 

उधर, सचिन पायलट के पद से बर्खास्तगी की मीडिया को जानकारी देने आये रणदीप सुरजेवाला ने कहा, ”सोनिया गांधी जी ने राहुल गांधी के नेतृत्व में सचिन पायलट व दूसरे साथी मंत्री, विधायकों से लगातार संपर्क करने की कोशिश की. कांग्रेस आलाकमान ने सचिन पायलट से आधा दर्जन बार बात की. CWC के दो सदस्यों ने पायलट से दर्जनों बार बात की. केसी वेणुगोपाल ने कई बार बात की. सोनिया जी और राहुल जी की ओर से हमने भी अपील की कि सारे दरवाजे खुले हैं. अगर आपका मतभेद है तो कांग्रेस नेतृत्व को बताइए, हम बैठकर सुलझाएंगे.”

वहीं, राज्यपाल को मंत्रिमंडल में बदलाव की जानकारी देने के बाद जब खुद सीएम अशोक गहलोत मीडिया से मुखातिब हुए तो उन्होंने आरोप लगाया कि रिजॉर्ट से लेकर बगावत तक की सारी व्यवस्था बीजेपी की ओर से की जा रही है. अशोक गहलोत ने कहा कि जनता ने हमारा साथ दिया, लेकिन बीजेपी इसे स्वीकार नहीं कर पाई है. जिनपर एक्शन लिया गया उसपर हमें खुशी नहीं है, मैंने उनकी कोई शिकायत नहीं की. लेकिन उनका रवैया ऐसा ही रहा है, पिछले काफी वक्त से ‘आ बैल मुझे मार’ का रवैया रहा है.

Continue Reading

जयपुर

Rajasthan Political Crisis: क्या अपनी सरकार बचा पाएंगे ‘जादूगर’ अशोक गहलोत? क्या कहता है नंबर गेम?

Published

on

By

राजस्थान में भले सियासी घटनाक्रम पल-पल बदल रहे हो लेकिन बीते दो दिन और खासकर रविवार रात से जो तस्वीर निकलकर सामने आई है. उससे एक अंदाजा जो साफ़ लगाया जा सकता है वो ये है कि अब सुलह की गुंजाइश नहीं है, लड़ाई आरपार की है, सचिन पायलट बगावत के राह पर निकल चुके है. ऐसे में जो सबसे बड़ा सवाल उठता है वो ये है कि क्या ‘पायलट’ के ‘सिंधिया’ बन जाने के बाद राजस्थान की सियासत के जादूगर माने जाने वाले अशोक गहलोत अपनी सरकार बचा पाएंगे. इस सवाल का जवाब राजस्थान विधानसभा के ‘नंबर गेम’ पर निर्भर करता है.

तमाम सूत्र बताते है कि कांग्रेस और कुछ निर्दलीय विधायक सचिन पायलट के समर्थन में है. और वो जो भी फैसला लेंगे ये विधायक उनके साथ रहेंगे. लेकिन फिर सवाल यही है की सचिन पायलट के समर्थन में कौन विधायक है और वे खुलकर सामने क्यों नहीं आते. इस सवाल का जवाब है कि सूबे की सरकार में नंबर 2 की हैसियत रखने वाले पायलट के समर्थक विधायकों की संख्या डबल डिजिट में तो है लेकिन वो संख्या इतनी ज्यादा नहीं है कि वो ‘जादूगर’ गहलोत की सरकार को अस्थिर कर सके. इस बात की बानगी कल उस वक़्त ही देखने को मिल गई जब दिल्ली से वापस लौटे पायलट खेमे के माने जाने वाले तीन विधायक रोहित वोहरा, दानिश अबरार और हरीश चौधरी ने अशोक गहलोत सरकार में अपनी आस्था जताते हुए कहा कि कहा कि हम कांग्रेस के सिपाही हैं और आखिरी सांस तक कांग्रेस के साथ ही रहेंगे.

अगर पायलट ‘सिंधिया’ की राह पर चल पड़े तो भी राजस्थान में गहलोत सरकार को पलटना इसलिए भी मुश्किल है क्योंकि मध्यप्रदेश के मुकाबले यहाँ विधायकों की संख्या में बड़ा फासला है. मध्य प्रदेश में बीजेपी और कांग्रेस के बीच केवल 5 सीटों का अंतर था, जबकि राजस्थान में अभी बीजेपी और कांग्रेस के बीच 35 सीटों का अंतर है. एक दूसरा फैक्टर यह भी है कि मध्यप्रदेश में सिंधिया की महत्वाकांक्षा मुख्यमंत्री बनने की नहीं थी, लेकिन सचिन पायलट बगावत करने की स्थिति में सचिन पायलट मुख्यमंत्री बनना चाहते हैं.

गौर करने वाली बात यह भी है कि अगर गहलोत सरकार गिर भी गई तो मध्य प्रदेश में बीजेपी को सरकार बचाने के लिए 25 में से केवल 9 उपचुनाव जीतने हैं. लेकिन राजस्थान में सभी उपचुनाव जीतने पड़ेंगे. इसके अलावा राजस्थान में वसुंधरा फैक्टर भी है. कहा जाता है कि शिवराज सिंह चौहान संगठन की लकीर पर चलने वाले नेता हैं. लेकिन राजस्थान में बिना वसुंधरा राजे की मर्जी के बीजेपी सचिन पायलट संग जाने का जोखिम नहीं उठा सकती है.

तमाम ऐसे फैक्टर है जो इस ओर साफ़ इशारा करते है कि सियासी संकट होने के बावजूद अशोक गहलोत सरकार को तत्काल गिरना मुश्किल है. रविवार देर रात पार्टी के राजस्थान प्रभारी अविनाश पांडे ने 109 विधायकों के लिखित समर्थन की बात कही है. बहरहाल, अब सबकी निगाहे कांग्रेस द्वारा बुलाई गई विधायक दल की बैठक पर है. सरकार में मंत्री प्रताप सिंह 105 से अधिक विधायकों के अब तक इसमें पहुच जाने का दावा कर रहे है लेकिन बैठक ख़त्म होने के बाद ही स्थिति पूरी तरह से स्पष्ट हो पायेगी. हालाँकि यह तय है कि जो विधायक इसमें शामिल नहीं होंगे उनपर कारन बताओ नोटिस के बाद करवाई तय है.

Continue Reading

पार्टी पद देती है, ले भी सकती है: कांग्रेस से सुलह के बाद पहली बार बोले पायलट

पायलट की शिकायतों को दूर करने के लिए बनी 3 सदस्यीय कमेटी, प्रियंका भी शामिल

संजय दत्त को दो दिन बाद मिली अस्पताल से छुट्टी – सांस लेने में तकलीफ के चलते हुए थे भर्ती

Sushant Case : 10 घंटे की पूछताछ के बाद ईडी ऑफिस से बाहर निकली रिया

एक्टर पूजा जोशी ने किया समीर शर्मा को याद, कहा अकेले रहना ठीक नही..

देर-सबेर गहलोत की कुर्सी जानी तय, पर पायलट को भी नहीं मिलेगी, ये है फार्मूला

राहुल संग पायलट मुलाक़ात पर बोली BJP- अच्छा हुआ, हमारा होटल का खर्चा बच गया

CM गहलोत से मिले पायलट कैंप के विधायक, बोले- नाराजगी दूर हो गई, सरकार सेफ

शरीर के ज़िद्दी फेट को करना दूर है?आज ही घर पर बनाएं यह आसान ड्रिंक …

32 दिनों से जारी विवाद का द एंड? राहुल-प्रियंका से मिले सचिन पायलट

बॉलीवुड1 day ago

संजय राउत ने कहा- अंकिता और सुशांत का क्यों हुआ ब्रेकअप, इसकी भी हो जांच

बॉलीवुड2 days ago

Sushant Singh Case: फ्लैटमेट सिद्धार्थ पिठानी का पकड़ा गया सबसे बड़ा झूठ, सुसाइड से पहले सुशांत सिंह….

बॉलीवुड3 weeks ago

Sushant Singh Rajput को न्याय दिलाने के लिए शुरू हुआ डिजिटल प्रोटेस्ट

राजनीति1 week ago

राजस्थान ब्रेकिंग: विधायकों के खरीद फरोख्त से जुड़ी ऑडियो FSL जांच में सही पाई गई

फिल्म रिव्यु2 weeks ago

Dil Bechara movie Review: जिंदगी को दिल खोलकर जीना सिखाती है सुशांत की आखिरी फिल्म

बॉलीवुड4 days ago

सुशांत सिंह राजपूत मामले में सूरज पंचोली ने तोड़ी चुप्पी, किया सच का खुलासा ..

उत्तर प्रदेश1 week ago

UP के बुलंदशहर में 25 जुलाई से लापता वकील की मिली लाश, प्रियंका बोलीं- UP में क्राइम-कोरोना कंट्रोल से बाहर

बॉलीवुड1 day ago

सुशांत सिंह राजपूत ने रिया चक्रवर्ती के भाई शौविक चक्रवर्ती के अकाउंट में ट्रांसफर किये थे कई लाख रुपए

मनोरंजन5 days ago

रिया के राज जान चुका था सुशांत का परिवार ! नई चैट वायरल

बॉलीवुड4 days ago

सुशांत को पागल साबित कर मेंटल हॉस्पिटल भेजना चाहती थी रिया – रिया की कॉल डिटेल्स से हुआ खुलासा

ट्रेंडिंग न्यूज़