पर्सनल फाईनेंस

मोदी सरकार की इस योजना में बैठे मिलेंगे 5000 रूपये महीना, बस करे ये आसान काम

Published

on

मोदी सरकार ने एक ऐसी योजना चलाई है जिसके जरिए आप हर माह घर बैठे (earn money home) 5000 रुपये पा सकते हैं. यदि आप की उम्र 18 वर्ष से अधिक हो चुकी है तो आप इस योजना का लाभ उठा सकते है.आज आपको एक ऐसी स्कीम के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसके बारे में आपको जरूर जानना चाहिए. दरअसल, मोदी सरकार की एक ऐसी स्कीम (Modi Government Scheme) है, जिसमें मामूली पैसे का निवेश करके 60 साल की उम्र के बाद हर महीने आपको 5 हजार रुपये घर बैठे मिलते रहेंगे. मतलब आपको सालाना 60 हजार रुपये घर बैठे प्राप्त होते रहेंगे.

 

अटल पेंशन योजना (Atal Pension Yojana)
मोदी सरकार की इस पेंशन स्कीम है का नाम है अटल पेंशन योजना (Atal Pension Yojana). ये स्कीम कम पैसा कमाने वाले लोगों के लिए है. ये स्कीम तय इनकम की गारंटी प्रदान करती है. 18 वर्ष की उम्र का कोई भी व्यक्ति जो भारत का नागरिक है, वह इस स्कीम से लाभ ले सकता है. इसके तहत एक खाता खुलवाना अनिवार्य है, जिसमें हर महीने, तिमाही या छमाही निवेश की सुविधा दी जाती है. इस योजना में 60 हजार रुपये सालाना या फिर 5 हजार रुपये महीना पेंशन की गारंटी है.

 

18 साल की उम्र से करें निवेश
अटल पेंशन योजना (Atal Pension Yojana) में 18 साल की उम्र पूरी करने के बाद जुड़ने का काफी लाभ है. यदि आप स्कीम से 18 साल की उम्र में जुड़ते हैं तो आपको हर महीने 210 रुपये जमा करने होंगे. मतलब साल भर में आपको 2520 रुपये जमा कराने होंगे. आपको 210 रुपये 60 साल की उम्र तक हर महीने जमा कराने होंगे. 60 की उम्र के बाद आपके हर महीने अकाउंट में 5 हजार रुपये आते रहेंगे. ये पैसे 60 साल के बाद जबतक आप जीवित रहेंगे आपके अकाउंट में आते रहेंगे.

 

ऐसे मिलेंगे 5000 रूपये महीना ?
यदि आप 18 की उम्र में तिमाही प्लान से जुड़ते हैं, तो इसमें आपको कुल निवेश 1.05 लाख रुपये जमा करने होंगे. अगर आप तिमाही प्लान के लिए 35 की उम्र में जुड़ते हैं, तो हर तीन महीने में आपको 2688 रुपये जमा कराने होंगे. आपको कुल 2.68 लाख रुपये जमा करने होंगे. यानी इस पेंशन प्लान के लिए आपको 1.63 लाख रुपये अधिक जमा करने होंगे. जिसके बाद पूरी जिंदगी आपके अकाउंट में 60 हजार रुपए सालाना या फिर पांच हजार रुपए महीना आते रहेंगे.

पर्सनल फाईनेंस

फर्निशिंग फैबरिक्स की एंटीवायरल रेंज और एयर प्यूरिफाइंग रेंज लॉन्च करने के लिए डी’डेकोर ने हाईक्यू से हाथ मिलाया

Published

on





अपने ग्राहकों को खूबसूरती के साथ सुरक्षित रहने में मदद करने के लिए  डी’डेकोर होम फैब्रिक्स को स्विस टेक्सटाइल इन्नोवेटर हाईक्यू (HeiQ) के साथ साझेदारी करने पर गर्व है। 

डी’डेकोर के उत्पादों की एंटीवायरल और एयर प्यूरिफाइग रेंज सुरक्षित और खूबसूरत घर के दर्शन पर आधारित है। कपड़े बैक्टेरिया और वायरसों के लिए काफी बड़ी सतह प्रदान करते हैं जिस में वे कई दिनों से लेकर कई महीनों तक सक्रिए बने रहते हैं, महामारी के इस समय में, लोग पहले की तुलना में कहीं अधिक स्वच्छ घरेलू समाधानों की तलाश में हैं। डी’डेकोर होम फैब्रिक्स इस समस्या का समाधान ढूंढ़ना चाहता था और अपने कपड़ों को एंटीवायरल और एंटीबैक्टीरियल बनाना चाहता था। इसलिए इन्होंने हाईक्यू (HeiQ) के साथ साझेदारी की ताकि वे डी’डेकोर द्वारा वीरोगार्ड (ViroGuard) और डी’डेकोर  द्वारा एयरोफ्रेश (AeroFresh) को लॉन्च कर सकें।  

हाईक्यूवीरोब्लॉक (HeiQViroblock) द्वारा प्रेरित डी’डेकोर का वीरोगार्ड होम टेक्सटाइल प्रोडक्ट्स की एंटीवायरल रेंज है। हाईक्यूवीरोब्लॉक द्वारा उपचारित कपड़ों का कोरोनावायरस, इन्फ्लूएंजा, एवियन फ्लू, स्वाइन फ्लू और रेसपायरेटरी सिंसिटियल वायरस के खिलाफ प्रभावी तरीके से परीक्षण किया गया था और नतीजों में वायरस में 99.99% की कमी पाई गई थी। वीरोगार्ड का लक्ष्य बेहद कम समय में वायरस और बैक्टीरिया को नष्ट करना और कपड़ों को लंबे समय तक सुरक्षित बनाए रखना है। डी’डेकोर होम फैब्रिक्स इस तकनीक से बने अप्होल्स्ट्री (घरेलू साज–सज्जा) फैब्रिक्स, पर्दे के कपड़े और चादर बाजार में उतारेगा। 

हाईक्यू फ्रेश (HeiQ Fresh) से प्रेरित, डी’डेकोर का एयरोफ्रेश, एक एयर प्यूरिफाइंग फंग्शन है जो घर के भीतर की हवा की गुणवत्ता में सुधार लाने के लिए यूवी (UV) किरणों का प्रयोग करता है। इंसानों के स्वास्थ्य संबंधी बढ़ते खतरे के साथ घर के भीतर की हवा की शुद्धता प्रमुख चिंता बनती जा रही है। घर के भीतर की हवा में वाष्पशील कार्बनिक यौगिक (VOCs) पाए जाते हैं जो घर में इस्तेमाल किए जा रहे सजावटी सामान, कालीन, गोंद, सफाई करने वाले स्प्रे, एयरोसोल, फर्श आदि से निकलते हैं। डी’डेकोर होम फैब्रिक्स ने हाईक्यू फ्रेश को अपनाया है, हाईक्यू का अपने कस्टम–मेड पर्दों पर इस्तेमाल किए जाने वाले महत्वपूर्ण एयर प्यूरिफाइंग टेक्सटाइल टेक्नोलॉजी उपयोगकर्ताओं को घर में मौजूद हवा की गुणवत्ता को सुधारने में मदद करता है। यह हवा में VOC कणों को स्थिर कर किसी भी कपड़े की सतह को एयर प्यूरिफाइंग सतह में बदल देता है और फिर प्रकाश का प्रयोग कर उन्हें विघटित कर देता है। यह तेजी से काम करता है (24 घंटे के भीतर) और 20 बार की धुलाई तक चलता है। 

डी’डेकोर होम फैब्रिक्स विश्व में बुने हुए कपड़ों और पर्दे के कपड़ों का सबसे बड़ा निर्माता है। वर्ष 1999 में स्थापित डी’डेकोर को ‘ग्लोबली लोकल’ होने पर गर्व है। ये हर उस देश की सौंदर्य संबंधी संवेदनशीलता को समझते हैं जिनमें उनके उत्पादों का प्रयोग किया जाता है। विश्व भर में प्रमुख फर्नीचर निर्माताओं और अपहोल्स्ट्री और पर्दे के कपड़े के खुदरा विक्रेताओं के साझेदार के रूप में, डी’डेकोर ने बिस्तर उत्पादों का उत्पादन भी शुरु किया है। 

भारत में मुबंई में स्थित, डी’डेकोर होम फैब्रिक्स के पांच अत्याधुनिक उत्पादन संयंत्र हैं। सभी संयंत्र अत्याधुनिक उपकरणों और देश के पहले रोबोटिक वेयरहाउस से लैस हैं। दो दशकों से भी अधिक समय से कारोबार कर रही इस पुरस्कार विजेता कंपनी को एक मजबूत कंपनी बनाने के लिए इसका संचालन दूरदर्शी, अन्वेषक और लीडर्स की कोर टीम करती है। 

हाईक्यू एक थ्री–इन–वन कंपनी हैः वैज्ञानिक अनुसंधान, विशेष सामग्रियों का निर्माण और उपभोक्ता घटक ब्रांड, ये सभी मिलकर काम करते हैं ताकि कपड़े से बनने वाले रोज़ाना इस्तेमाल किए जाने वाले उत्पादों को बेहतर बनाकर अरबों लोगों के जीवन को बेहतर बनाया जा सके। ये आज के बाजार में सबसे प्रभावी, टिकाऊ और बेहतरीन प्रदर्शन करने वाले कपड़े की तकनीक के साथ अपने साझेदारों के साथ मिल कर कुछ अलग और नया बनाना जारी रखते हैं। 

“डी’डेकोर हमेशा से खूबसूरती और विविधता का प्रतीक रहा है। लेकिन हमें लगता है कि आज के परिदृश्य में और यह बात की हमारे उत्पाद घर का बहुत अभिन्न हिस्सा होते हैं, हम यह सुनिश्चित करना चाहते हैं कि हमारे उत्पाद खूबसूरती के परे जाएं और हमारे ग्राहकों को एक स्तर की सुरक्षा एवं स्वच्छता प्रदान करें। हाईक्यू में हमें एक पूर्ण साझेदार मिला जो वीरोब्लॉक और फ्रेश जैसे सॉल्यूशंस की मदद से हमारे रचनात्मकता और गुणवत्ता को नवीनतम तकनीक से बेहतर बनाएगा।”

 

”होम फर्निशिंग घर में सबसे अधिक छूए जाने वाले सतह होते हैं। चाहे आप घर के पर्दे खींच रहे हों, सोफे पर आराम से बैठे हों, कुशन के साथ मस्ती कर रहे हों या बिस्तर पर चैन की नींद ले रहे हों। डी’डेकोर के वीरोगार्ड और एयरोफ्रेश के साथ हम अपने बहुमूल्य ग्राहकों को खूबसूरती के साथ जीते हुए सुरक्षित रहने में मदद करने का वादा करते है”, अजय अरोड़ा, मैनेजिंग डायरेक्टर– डी’डेकोर होम फैब्रिक्स 

 

हाईक्यू ग्रुप के सीएमओ, होई वैन लाम का कहना है कि, “हाईक्यू डी’डेकोर होम फैब्रिक्स के साथ साझेदारी करने को उत्सुक है। यह डी’डेकोर के उत्पादों को हाईक्यूवीरोब्लॉक और हाईक्यू फ्रेश से उपचारित करने को उत्साहित है ताकि इनके उपभोक्ता अपने घर के भीतर सुरक्षा के स्तर में सुधार ला सकें।  


Continue Reading

पर्सनल फाईनेंस

सिर्फ़ इतने पैसों में शुरू करें नए जमाने का ये बिजनेस, हर महीने लाखों में होगी कमाई

Published

on

टेक्नोलॉजी काफी तेजी से बढ़ रही है और इसके साथ लोगों की जरूरतें भी बढ़ रही हैं. कुछ साल पहले तक हम सिर्फ घरों के बारे में सोचते थे, लेकिन अब हम स्मार्ट होम के बारे में सोचने लगे हैं. होम ऑटोमेशन का बाजार भारत में नया है और इसमें नई कंपनियों की एंट्री के साथ बिजनेस के नए मौके भी बन रहे हैं. टेक्नोलॉजी की इसी दुनिया के माध्यम से एक कंपनी आपको बहुत कम निवेश में बेहतर कमाने का मौका दे रही है. आइए जानते हैं इस बिजनेस मॉड्यूल के बारे में…

Image result for indian rupee

अपने घर को स्मार्ट होने बनाने के लिए ज्यादा लोगों को यह नहीं पता है कि उन्हें शुरुआत में क्या खरीदना चाहिए. लोगों की इसी समस्या के समाधान के लिए होम ऑटोमेशन की स्टार्टअप पोंगोहोम ने इस क्षेत्र में कदम रखा. कंपनी घर के स्मार्ट होम बनाने की सारी सुविधाएं देने के साथ लोगों को इससे जुड़कर अपना खुद का बिजनेस शुरू करने का भी मौका दे रही है.

Related image

फिलहाल देश भर में कंपनी के 80 से ज्यादा डीलरशिप हैं और असम, महाराष्ट्र, हिमाचल प्रदेश, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, कर्नाटक में 12000 से ज्यादा इसके ग्राहक हैं. यदि आप भी बिजनेस की तलाश में हैं तो इस कंपनी के साथ बतौर डीलर जुड़कर काम कर सकते हैं. डीलरशिप लेने के बाद आप अपने शहर में भी बिजनेस शुरू कर सकते हैं.

एक बेडरूम हॉल किचन वाले घर को स्मार्ट होम बनाने पर 10 हजार रुपये तक खर्च आता है. वहीं केवल एक रूम में अगर लाइट और पंखे को कंट्रोल करना है तो इस पर 3,200 रुपए तक खर्च आएगा. यदि आप महीने में ऐसे 10 से 15 क्लाइंट बना लेते है, तो आप आसानी से 30 से 40 हजार रुपए तक महीने में कमा सकते हैं. अगर आप इसकी डीलरशिप के लिए अप्लाई करना चाहते हैं, तो कंपनी की वेबसाइट पर जाकर पार्टनर बनने के लिए संपर्क हैं.

Continue Reading

पर्सनल फाईनेंस

LIC की जीवन प्रगति स्कीम, रोजाना 200 रुपये खर्च कर इतने साल में मिलेंगे 28 लाख

Published

on





भारतीय जीवन बीमा निगम (LIC) एक खास पॉलिसी है जो बुढ़ापे के लिए तैयार की गई है. यह एक नॉन लिंक्ड पॉलिसी है. इस वजह से इस पॉलिसी का शेयर मॉर्केट से कोई संबंध नहीं है. इस प्लान में कम समय के लिए निवेश कर पॉलिसीधारकों को कई फायदे मिलते हैं. इस प्लान के अंतर्गत आपको सुरक्षा के साथ साथ बचत भी प्रदान करती है. इसमें आप 200 रुपए रोजाना निवेश कर 20 साल बाद ग्राहकों को 28 लाख रुपए मिलते हैं. यही नहीं इस पॉलिसी में 15,000 रुपए से ज्यादा की पेंशन भी दी जाती है. आप इस योजना में, दुर्घटना मृत्यु लाभ तथा दिव्यांगता राइडर का लाभ उठा सकते हैं. बस इसके लिए आपको एक मामूली सी अतिरिक्त राशि का भुगतान करना होगा. आइए आपको बताते हैं इस पॉलिसी के बारे में सबकुछ…

एलआईसी जीवन प्रगति योजना से मिलने वाले बेनेफिट्स
मैच्युरिटी लाभ: अगर पॉलिसी धारक पूरे पॉलिसी अवधि तक जीवित रहता है, तो पॉलिसी (योजना) के अंत में उसे, मूल बीमित रकम + सिंपल रिवर्सनरी बोनस(जमा हुआ बोनस) + फाइनल एडीशन बोनस(अगर कुछ है तो) का भुगतान किया जाएगा.

मृत्यु लाभ: अगर पॉलिसी अवधि के दौरान पॉलिसी धारक की मृत्यु हो जाती है तो उसके नॉमिनी को मृत्यु पर बीमित रकम + सिंपल रिवर्सनरी बोनस(जमा हुआ बोनस) + फाइनल एडीशन बोनस(अगर कुछ है तो) का भुगतान किया जाएगा.

फाइनल एडीशन बोनस: इस योजना के अंतर्गत आपको एलआईसी द्वारा योजना के अंत में एक अतिरिक्त बोनस दिया जाता है. यह एक प्रकार का लॉयल्टी बोनस होता है, जो आपको एलआईसी के प्रति वफादार रहने के लिए अर्थात लंबे समय तक योजना में बने रहने के लिए दिया जाता है.(15 वर्ष से अधिक की योजनाओं के किए). लॉयल्टी बोनस की घोषणा भी हर वर्ष एलआईसी द्वारा की जाती है.

एलआईसी जीवन प्रगति को कैसे कैल्कुलेट करें(A)मैच्योरिटी(परिपक्वता) लाभ: पॉलिसी अवधि के अंत में, अक्षय को मूल बीमित रकम + सिंपल रिवर्सनरी बोनस(जमा हुआ बोनस) + फाइनल एडीशन बोनस(अगर कुछ है तो) का भुगतान होगा. इसके आधार पर,
मूल बीमित रकम = Rs. 2,50,000/-

(B) सिंपल रिवर्सनरी बोनस = Rs. 10,500 x 20 वर्ष = Rs. 2,10,000/-

यहां पर हमने माना है कि, एलआईसी प्रत्येक वर्ष प्रति 1000 रुपये के बीमित रकम पर 42 रुपये का बोनस देती है. इस प्रकार हर वर्ष मिलनेवाला बोनस = 42 x 2,50,000/1,000 = Rs. 10,500/-

(C)फाइनल एडीशन बोनस = Rs. 12,500/-

ये भी पढ़ें: LIC की नई जबरदस्त स्कीम, 30 रुपये रोज जमा करने पर मिलेगा 10.62 लाख का बंपर रिटर्न

यहां पर हमने फाइनल एडीशन बोनस की दर प्रति Rs. 1000 के बीमित रकम पर Rs. 50 रखा है.

अर्थात, 50 x 2,50,000/1,000 = Rs. 12,500

तो अक्षय को मैच्युरिटी रकम के रूप में, (A) + (B) + (C) = Rs. 2,50,000 + Rs. 2,10,000 + Rs. 12,500 = Rs. 4,72,500/-

तो जीवन प्रगति के इस उदहारण में मैच्युरिटी लाभ के रूप में अक्षय को = Rs. 4,72,500/-

एलआईसी जीवन प्रगति योजना में सहभागी होने की शर्तें
उम्र: 12 से 45 वर्ष

पॉलिसी अवधि: 12 से 20 वर्ष

मैच्योरिटी की अधिकतम उम्र: 65 वर्ष

कवर राशि न्यूनतम – Rs. 1,50,000 अधिकतम – कोई सीमा नहीं

एलआईसी जीवन प्रगति योजना में सरेंडर वैल्यू
अगर पॉलिसी धारक ने 3 साल तक प्रीमियम भरा है तो वह पॉलिसी को सरेंडर कर सकता है और सरेंडर मुल्य प्राप्त कर सकता है. इस कैल्कुलेटर का उपयोग कर आप एलआईसी जीवन प्रगति योजना में मिलनेवाले सरेंडर वैल्यू का निर्धारण कर सकते हैं.


Continue Reading

पर्सनल फाईनेंस

देश की सबसे छोटी सेविंग स्कीम, बैंक एफडी से ज्यादा ब्याज

LIC MICRO BACHAT PLAN

Published

on





लाइफ इंश्योरेंस कॉर्पोरेशन (LIC) ने नया इंश्योरेंस प्लान लॉन्च किया। माइक्रो बचत नाम के इस Regular premium वाले प्लान में कई तरह के फीचर्स हैं। इस Life Insurance Plan में 50 हजार रुपए से 2 लाख तक का बीमा मिलेगा। ये नॉन लिंक्ड इंश्योरेंस प्लान ( Non Linked Insurance Plan ) है।

यानी प्लान की मैच्युरिटी पर पॉलिसी होल्डर को बैंक एफडी की तरह एकमुश्त रकम मिलेगी। अगर पॉलिसी होल्डर ( POLICY HOLDER ) को कुछ होता है तो बीमा की पूरी रकम उसके परिवार वालों को मिलेगी। इस प्लान के तहत पॉलिसी में लॉयल्टी का फायदा भी मिलेगा। अगर किसी ने 3 साल तक प्रीमियम दिया है तो उसको माइक्रो बचत प्लान में लोन की सुविधा भी मिलेगी।

ये बीमा सिर्फ 18 से 55 साल तक की उम्र वालों को मिलेगा। इसके तहत किसी तरह की मेडिकल जांच की जरूरत नहीं होगी। अगर कोई 3 साल तक लगातार प्रीमियम भरता है तो उसके बाद प्रीमियम नहीं भर पाता है तो उसे 6 महीने तक बीमा की सुविधा जारी रहेगी। अगर ये प्रीमियम पॉलिसी होल्डर 5 साल तक भरता है तो उसे 2 साल का ऑटो कवर मिलेगा। इस प्लान की संख्या 851 है।
माइक्रो बचत प्लान में सालाना, अर्धवार्षिक, तिमाही और मासिक आधार पर प्रीमियम भर सकते हैं। इसमें आपको LIC के एक्सीडेंटल राइडर जोड़ने की सुविधा भी मिलेगी। हालांकि इसके लिए आपको अलग से प्रीमियम देना होगा।
 
माइक्रो बचत इंश्योरेंस प्लान में 10 साल, 12 साल और 15 साल तक प्रीमियम भरने के विकल्प मिलेंगे। इसके तहत 18 साल की उम्र वाला कोई व्यक्ति अगर 15 साल वाला प्लान लेता है तो उसे प्रति हजार 51.5 रुपए प्रीमियम देना होगा। वहीं 25 साल वाले को इसी अवधि के लिए 51.60 रुपए और 35 साल वाले को 52.20 रुपए प्रीमियम प्रति हजार रुपए देना होगा।
 
10 साल के प्लान में प्रीमियम 85.45 से 91.9 रुपए प्रति हजार रुपए होगा। प्रीमियम में 2 फीसदी की छूट भी मिलेगी। अगर खरीदने के बाद आपको ये इंश्योरेंस पसंद नहीं आता है तो आप 15 दिन के भीतर प्लान को सरेंडर कर सकते हैं।
 
अगर कोई 35 साल का व्यक्ति 1 लाख रुपए के सम अश्योर्ड वाली 15 साल की पॉलिसी लेता है तो उसका सालाना प्रीमियम 5116 रुपए आएगा। चालू पॉलिसी में 70 फीसदी तक रकम का लोन मिलेगा। वहीं चुकता पॉलिसी में 60 फीसदी तक रकम के लिए लोन की पात्रता होगी।
 
इस दौरान लोन पर 10.42 फीसदी की दर से ब्याज देना होगा। प्रीमियम के भुगतान के लिए 1 महीने तक ती छूट रहेगी। इस पॉलिसी के लिए मैच्युरिटी की अधिकतम उम्र 70 साल रहेगी। ये एक लाइफ इंश्योरेंस पॉलिसी है इसलिए आपको प्रीमियम भुगतान पर सेक्शन 80 सी के तहत इनकम टैक्स की छूट मिलेगी।


Continue Reading

निवेश

इसे चीज़ का शुरू करे बिज़नेस, कमाई लाख महीना मोदी सरकार देगी 4 लाख रुपए

Published

on

एक ऐसा बिज़नेस है जो आप केवल 2 लाख रुपए में शुरू कर सकते हैं. पापड़ बनाने के बिज़नेस को सिर्फ 2 लाख रुपए में किया जा सकता है. नेशनल स्माल इंडस्ट्री कारपोरेशन ने इसके लिए एक प्रोजेक्ट रिपोर्ट तैयार किया है. इसके जरिये आपको मुद्रा स्कीम के तहत 4 लाख रुपए का लोन सस्ते रेट में मिल जाएगा।

इस रिपोर्ट के मुताबिक 6 लाख रुपए के कुल निवेश से करीब 30 हज़ार किलोग्राम के प्रोडक्शन कैपिसिटी तैयार हो जायगी। इस बिज़नेस को शुरू करने के लिए आपको 6. 05 लाख रुपए खर्च करना होगा।
इसमें आपको दो मशीन, पैकेजिंग मशीन जैसे तमाम खर्च शामिल है. वर्किंग कैपिटल में स्टाफ की तीन महीने की सैलरी, तीन महीने लगने वाले रॉ मेटीरियल और यूटिलिटी प्रोडक्ट का खर्च शामिल है. इसके अलावा इसमें किराया, बिजली, पानी, टेलीफ़ोन का बिल जैसे खर्च भी शामिल है.

इन मशीनों की होगी जरुरत
पापड़ के बिज़नेस को शुरू करने के लिए आपको स्विफ़्टर, दो मिक्सर, प्लेटफार्म बैलेंस, ओवन, मार्बल टेबल टॉप, चकला बेलन, अल्युमिनियम के बर्तन और रैक्स जैसी मशीनरी की जरुरत होगी। इसके लिए आपको 250 वर्ग फूट की जगह की जरुरत होगी। इसके लिए आपको कम से कम 5 हज़ार रुपए किराया देना होगा। कर्मचारियों में तीन अनस्किलड लेबर, दो स्किल्ड लेबर, और एक सुपरवाइजर की जरुआत होगी। इन सबकी सैलरी पर 25 हज़ार रुपए खर्च होगी।

खुद से लगाने होंगे 2 लाख रुपए

आपको इस बिज़नेस के लिए खुद की तरफ से दो लाख रुपए लगाने होंगे। सरकार की मुद्रा योजना से 4 लाख रुपए मिल जायेंगे। इसके लिए आपको एक फॉर्म भरनी होगी।

सही मार्केटिंग से बिज़नेस बढ़ाये

प्रोडक्ट बनने के बाद इसे थोक में बेचना होगा। इसके लिए छोटे किराना स्टोर और सुपर मार्किट और बड़े रिटेलर से सपर्क बनाकर इसकी सेल बधाई जा सकती है.

हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे।

Continue Reading

निवेश

करोड़पति बनने के लिए रोजाना 28 रुपए जमा करें और इतने साल बाद मिलेंगे करीब 1.50 लाख रुपए

Published

on

भारतीय जीवन बीमा निगम ने हाल ही में एक नई पॉलिसी की शुरूआत की है। जिसका नाम नवजीवन इन्श्योरेंस प्लान रखा गया है। यह एक नॉन लिंक्ड पॉलिसी है। इस पॉलिसी से आपको प्रोटेक्शन का फीचर तो जुड़ा ही हुआ है। साथ ही इससे आप सेविंग भी कर सकते हैं। एलआईसी के अनुसार आपको इस नए प्लान में सिंगल प्रीमियम पेमेंट की सुविधा भी मिलेगी। वहीं आप अपना पूरा प्रीमियम 5 साल तक भी भर सकते हैं।

अगर एक लाख रुपए की पॉलिसी लेते हैं और रोजाना के हिसाब से आपको 28 रुपए प्रीमियम जमा करना होगा। वहीं मंथली प्रीमियम 881 रुपए और क्वार्टली प्रीमियम2642 रुपए होगा। वहीं हाफ ईयरली पर आपको 5282 और सालाना पर आपको 10565 रुपए देने होंगे। पहले साल में आपसे 4.5 फीसदी का टैक्स लिया जाएगा। वहीं दूसरे साल में आपको आपका प्रीमियम 2.25 फीसदी के टैक्स के साथ प्रतिदिन 28 रुपए, मंथली 862 रुपए, क्वार्टली 2582 रुपए, हाफ ईयरली 5169 रुपए और ईयरली 10337 रुपए जमा कराने होंगे।

अगर आपकी मौत हो जाती है तो आपको एक लाख रुपए की मिनीमम पॉलिसी पर उपर दी गई जानकारी के अनुसार प्रीमियत जमा कराते हैं तो मंथली मोड पर प्रिमीयम जमा कराने वाले के परिवार को 104638 रुपए, क्वार्टरली जमा कराने वाले को 104133, हाफ ईयरली जमा कराने वाले को 103122 और ईसरली प्रीमियम देने वाले को 101100 रुपए मिलेंगे।

Continue Reading

पार्टी पद देती है, ले भी सकती है: कांग्रेस से सुलह के बाद पहली बार बोले पायलट

पायलट की शिकायतों को दूर करने के लिए बनी 3 सदस्यीय कमेटी, प्रियंका भी शामिल

संजय दत्त को दो दिन बाद मिली अस्पताल से छुट्टी – सांस लेने में तकलीफ के चलते हुए थे भर्ती

Sushant Case : 10 घंटे की पूछताछ के बाद ईडी ऑफिस से बाहर निकली रिया

एक्टर पूजा जोशी ने किया समीर शर्मा को याद, कहा अकेले रहना ठीक नही..

देर-सबेर गहलोत की कुर्सी जानी तय, पर पायलट को भी नहीं मिलेगी, ये है फार्मूला

राहुल संग पायलट मुलाक़ात पर बोली BJP- अच्छा हुआ, हमारा होटल का खर्चा बच गया

CM गहलोत से मिले पायलट कैंप के विधायक, बोले- नाराजगी दूर हो गई, सरकार सेफ

शरीर के ज़िद्दी फेट को करना दूर है?आज ही घर पर बनाएं यह आसान ड्रिंक …

32 दिनों से जारी विवाद का द एंड? राहुल-प्रियंका से मिले सचिन पायलट

बॉलीवुड1 day ago

संजय राउत ने कहा- अंकिता और सुशांत का क्यों हुआ ब्रेकअप, इसकी भी हो जांच

बॉलीवुड2 days ago

Sushant Singh Case: फ्लैटमेट सिद्धार्थ पिठानी का पकड़ा गया सबसे बड़ा झूठ, सुसाइड से पहले सुशांत सिंह….

बॉलीवुड3 weeks ago

Sushant Singh Rajput को न्याय दिलाने के लिए शुरू हुआ डिजिटल प्रोटेस्ट

राजनीति1 week ago

राजस्थान ब्रेकिंग: विधायकों के खरीद फरोख्त से जुड़ी ऑडियो FSL जांच में सही पाई गई

फिल्म रिव्यु2 weeks ago

Dil Bechara movie Review: जिंदगी को दिल खोलकर जीना सिखाती है सुशांत की आखिरी फिल्म

बॉलीवुड4 days ago

सुशांत सिंह राजपूत मामले में सूरज पंचोली ने तोड़ी चुप्पी, किया सच का खुलासा ..

उत्तर प्रदेश1 week ago

UP के बुलंदशहर में 25 जुलाई से लापता वकील की मिली लाश, प्रियंका बोलीं- UP में क्राइम-कोरोना कंट्रोल से बाहर

बॉलीवुड1 day ago

सुशांत सिंह राजपूत ने रिया चक्रवर्ती के भाई शौविक चक्रवर्ती के अकाउंट में ट्रांसफर किये थे कई लाख रुपए

मनोरंजन5 days ago

रिया के राज जान चुका था सुशांत का परिवार ! नई चैट वायरल

बॉलीवुड4 days ago

सुशांत को पागल साबित कर मेंटल हॉस्पिटल भेजना चाहती थी रिया – रिया की कॉल डिटेल्स से हुआ खुलासा

ट्रेंडिंग न्यूज़