लाइफस्टाइल

डिजिटल क्लास से बच्चों में बढ़ सकता है सर्वाइकल का खतरा, माता-पिता इन बातों का रखें ध्यान

Published

on

कोरोनावायरस ने लोगों के लिए नए तरीके से जीने की चुनौती पैदा की है। अब हम हमेशा की तरह पहले की तरह काम नहीं कर सकते। ऐसी स्थिति में  यह बहुत महत्वपूर्ण है कि लोग वर्तमान स्थिति को नॉर्मल मानें और आगे बढ़ें। इन दिनों बच्चों की पढ़ाई किसी भी अभिभावक के लिए मुसीबत बन गई है। हालांकि डिजिटल कक्षाएं बच्चों को पढ़ा रही हैं, लेकिन परिवार को इसके लिए बहुत संघर्ष करना पड़ता है। इसके साथ ही बच्चों को कई स्वास्थ्य समस्याओं का भी सामना करना पड़ रहा है, जैसे – चिड़चिड़ापन, मानसिक समस्याएं और आँखों का दर्द आदि। इन स्वास्थ्य समस्याओं को देखते हुए, मानव संसाधन विकास मंत्रालय (HRD) ने डिजिटल शिक्षा के संबंध में आवश्यक दिशा-निर्देश जारी किए हैं।

मंत्रालय के नए दिशानिर्देशों के अनुसार, पूर्व-प्राथमिक छात्रों के लिए ऑनलाइन कक्षा का समय 30 मिनट से अधिक नहीं होना चाहिए। इसके अलावा, कक्षा 1 से 8. के ​​लिए दो ऑनलाइन सत्र होंगे। एक सत्र में 45 मिनट की कक्षा होगी, जबकि कक्षा 9 से 12 के लिए, 30-45 मिनट की अवधि के चार सत्र होंगे। मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने नए दिशानिर्देशों के माध्यम से बच्चों के शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य दोनों का ध्यान रखने की कोशिश की है।

डिजिटल शिक्षा ने सभी बच्चों के लिए समस्याएं खड़ी कर दी हैं। क्योंकि लगातार स्क्रीन पर बैठना बच्चों की सेहत के लिए बिल्कुल अच्छा नहीं है। पूर्व राष्ट्रपति आर वेंकटरमन, शंकर दयाल शर्मा और प्रणब मुखर्जी के डॉक्टर डॉ. मोहसिन वली से इस विषय में अपने विचार बताएं है। और यह बताने की कोशिश की है कि बच्चों के लिए ऑनलाइन कक्षाएं कितनी हानिकारक हैं?

डॉ. मोहसिन ने कहा कि लॉकडाउन शुरू होने के बाद से, लोग अपने घरों में बंद हैं, जिसके कारण इंटरनेट का उपयोग पागलपन की हद तक किया जा रहा है और बच्चों को पढ़ाई करते समय इंटरनेट की स्पीड की समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। वीडियो और ऑडियो की गुणवत्ता खराब है, इस वजह से बच्चों में एकाग्रता की समस्या है। साथ ही भारत जैसे देश के लिए अभी डिजिटल क्लासरूम बहुत नए हैं। बच्चे, माता-पिता और शिक्षक इसके लिए तैयार नहीं हैं। ऑनलाइन कक्षा के दौरान, शिक्षकों के लिए एक साथ इतने सारे बच्चों पर ध्यान केंद्रित करने में सक्षम होना आसान नहीं है। बच्चों की पढ़ाई भी इससे प्रभावित होगी।

भविष्य में, ऑनलाइन कक्षाओं के कारण बच्चे किस तरह की समस्या का सामना कर सकते हैं? इसके जवाब में, डी.आर.एस. मोहसिन ने कहा, ‘लगातार ऑनलाइन कक्षाओं के मामले में, बच्चों की मुद्राओं के आकार या आकार में बदलाव हो सकता है। बच्चों में कमर, सर्वाइकल स्पाइन यानी रीढ़ और गर्दन के जोड़ों और मोटापे से जुड़ी समस्याएं हो सकती हैं। माउस और कीबोर्ड का बार-बार इस्तेमाल करने से भी उंगली से जुड़ी समस्याएं हो सकती हैं।

डॉ.मोहसिन ने कहा कि यह ज्ञात नहीं है कि सभी बच्चों के घरों में किस प्रकार की सुविधाएं उपलब्ध हैं। वह कुर्सी पर कितना ऊंचा बैठा है, स्क्रीन का आकार कितना बड़ा है, बैठने की मुद्रा सही है या नहीं? ये कुछ ऐसी चीजें हैं जो बच्चों के स्वास्थ्य को सीधे प्रभावित करती हैं। सभी पढ़ने वाले बच्चों के लिए बेहतर इंटरनेट स्पीड होना भी आवश्यक है। ताकि पढ़ाई के दौरान कोई गड़बड़ी न हो और बच्चे ठीक से पढ़ाई पर ध्यान केंद्रित कर सकें। उन्होंने बताया कि बच्चों का स्क्रीन साइज पढ़ाई के लिए ब्लैकबोर्ड जितना होना चाहिए। लेकिन हमारे देश में सभी माता-पिता के लिए ऐसा करना मुश्किल है। बच्चों की शिक्षा के लिए ऑनलाइन कक्षाएं कितनी उपयुक्त हैं, इसके जवाब में उन्होंने कहा कि हमारे देश में शुरू से ही गुरु शिष्य परंपरा रही है। जब आप स्कूल जाते हैं, तो आप शारीरिक रूप से शिक्षकों से बात करते हैं, दोस्तों से बात करते हैं और पढ़ाई पर भी ध्यान देते हैं। ऑनलाइन कक्षाओं में इसकी कमी है। इसलिए, यह सुनिश्चित करना मुश्किल है कि बच्चे इसे ठीक से समझते हैं या नहीं, निश्चित रूप से शिक्षा की गुणवत्ता भी बिगड़ रही है। डॉ.मोहसिन ने बताया कि आने वाले समय में माता-पिता को अधिक तैयार रहना होगा। उन्हें बच्चों का विशेष ध्यान रखना पड़ता है, खासकर होमवर्क के दौरान। उसे घर में शिक्षक की भूमिका निभानी होगी।

डॉ.आनंद ने भी अपने विचार रखें है उन्होने बताया कि अगर सरकार टीवी पर ऐसी कक्षाएं करती तो बेहतर होता। क्योंकि टीवी की गुणवत्ता बेहतर है। इसकी स्क्रीन सस्ते मोबाइल की तुलना में कम हानिकारक किरणों का उत्सर्जन करती है। साथ ही, इसका ऑडियो भी सुनने के लिए पर्याप्त है। ऐसी स्थिति में बच्चों को बाद में संबंधित समस्याओं को सुनने से बचाया जा सकता है। टीवी पर कक्षाओं का एक और लाभ भी है। ज्यादातर लोग टीवी को दीवार से सटाकर रखते हैं या दीवार में लटकाते हैं। ऐसी स्थिति में, टीवी देखने की सामान्य दूरी भी तुलनात्मक रूप से बेहतर है। छोटे शहरों में सभी परिवारों के पास लैपटॉप या डेस्कटॉप नहीं हैं। दूसरी चीज आमतौर पर स्क्रीन से दूर मीटर से कम होती है, लैपटॉप और डेस्कटॉप पर काम करती है। जो बच्चों के लिए खतरनाक है।

 

सवाल उठता है कि मौजूदा स्थिति में, माता-पिता के सामने क्या रास्ता है? इस सवाल के जवाब में, डॉ। आनंद शर्मा ने कहा कि बच्चों को ऑनलाइन कक्षाओं के दौरान एंटी ग्लेयर ग्लास का उपयोग करना चाहिए। इसके कारण मोबाइल या लैपटॉप से ​​निकलने वाली हानिकारक किरणों का बच्चों की आँखों पर कम प्रभाव पड़ता है। इसके अलावा, ऑडियो के लिए बेहतर गुणवत्ता वाले हेडफ़ोन का उपयोग करें।

ऑनलाइन क्लास वर्तमान समय की मांग है। ऐसी स्थिति में, माता-पिता के लिए यह महत्वपूर्ण है कि वे न केवल बच्चों की शिक्षा का ध्यान रखें, बल्कि उनके स्वास्थ्य का भी ध्यान रखें। कंप्यूटर स्क्रीन पर ज्यादा देर तक न बैठें, ब्रेक लेते रहें। इसके अलावा घर पर योग या प्राणायाम करें, ताकि वे मानसिक अवसाद, चिड़चिड़ापन या आंखों की समस्याओं से बच सकें।

लाइफस्टाइल

शरीर के ज़िद्दी फेट को करना दूर है?आज ही घर पर बनाएं यह आसान ड्रिंक …

Published

on

By

अक्सर लोग अपने शरीर की अधिक व जिद्दी चर्बी से परेशान रहते हैं। कई लोग तो इस मोटापे को कम करने के लिए कई सारे नुस्खे भी आज़माते हैं। लेकिन फिर भी वह इस मोटापे से निजात नहीं पा पाते। लेकिन आज हम आपके लिए एक बेहद सरल तरीका लेकर आए हैं। जिसकी मदद से आप अपने शरीर की जिद्दी से जिद्दी चर्बी को हमेशा के लिए अपने शरीर से दूर कर देंगे। यह एक घरेलू ड्रिंक है जिसकी मदद से आप अपना मोटापा दूर कर सकते हैं। इस ड्रिंक को बनाना भी बेहद आसान है और यकीनन इसकी सामग्री भी आपके घर में ही आसानी से मिल जाएगी।

यह घरेलू नुस्खा आपको दिलाएगा मोटापे से राहत

 यह घरेलू नुस्खा है गुड़ और नींबू के पेय पदार्थ। यकीनन यह दोनों ही चीज हर रसोई में आसानी से मिल जाएगी। गुुुड़ और नींबू में छुपे प्राकृतिक तत्व आपके शरीर के लिए बेहद फायदेमंद साबित होंगे। आपको बता दें कि गुड़ और चीनी के सेवन से आपकी बॉडी की विटामिन सी और पानी दोनों की कमी की पूर्ति होगी। साथ जिंक और एंटी ऑक्सीडेंट गुणों के प्रचुर मात्रा होने के कारण यह आपकी कैलोरी बर्न करने की क्षमता भी  घटाएगी। सबसे अहम और जरूरी फायदा इस ड्रिंक का यह है कि यह आपकी इम्यूनिटी पावर को भी बढ़ाएगी जो कि आज के कोरोनावायरस दौर में हमारे शरीर की सबसे पहली मांग और ज्यादा जरूरत है। 

गुड़ और नींबू की ड्रिंक बनाने की विधि

यह ड्रिंक बनाना बेहद सरल है। इसके लिए बस आपको गुनगुने पानी में एक चम्मच नींबू का रस और गुड़ मिलाना है। गुड़ की मात्रा एक छोटा टुकड़ा ही लें और जब तक यह गुड अच्छे से पानी में मिक्स नहीं हो जाता तब तक इस पानी को चम्मच से मिलाते रहे। आप चाहे तो इसमें पुदीने की पत्तियां भी ऐड कर सकती हैं। आपकी स्वास्थ्य से भरपूर ड्रिंक तैयार है। ध्यान रखें कि इस ड्रिंक का सेवन खाली पेट ही करें तभी इस ड्रिंक का लाभ आपको पूरी तरह मिल पाएगा।

Continue Reading

ब्यूटी टिप्स

लिपस्टिक लगाते वक्त रखें इन बातों का ख्याल, जानिए मजेदार लिपस्टिक हैक्स…

Published

on

By

बिना लिपस्टिक के पूरा मेकअप अधूरा होता है । लिपस्टिक का इस्तेमाल खुद को आकर्षक दिखाने के लिए और अपने होठों को एक अच्छा टैक्सचर देने के लिए किया जाता है। लेकिन अगर हम लिपस्टिक का इस्तेमाल सावधानी से ना करें कि तो होठों का पूरा टेक्सचर बिगड़ जाता है। यही वजह है कि लिपस्टिक लगाते वक्त हमें कई सावधानियां बरतनी पड़ती है। आज हम आपको ऐसी ही कुछ सावधानियों के बारे में बताने जा रहे हैं। इन बातों का ध्यान रखकर आप अपने लुक को और ज्यादा आकर्षक दिखा सकती है।

होठ ना हो रुखें – सुखें

लिपस्टिक लगाते वक्त ध्यान रखें कि आपके होठों के रुखे-सूखे फटे ना हो। यदि ऐसा होता है तो आपकी लिपस्टिक का टेक्सचर अच्छा नहीं आएगा साथ ही आपके होठों पर दरारें पड़ने लगेंगी जो कि आपके लुक को बिल्कुल खराब कर देंगा। 

आउटलाइन का इस्तेमाल जरूर करें

कुछ महिलाएं मेकअप करते वक्त आउटलाइनर का इस्तेमाल नहीं करती हैं। जिसकी वजह से लिपस्टिक अक्सर फैल जाती है। इसलिए जरूरी है कि आप आउटलाइन या पेंसिल का इस्तेमाल जरूर करें। आउटलाइनर का इस्तेमाल होठों को भी एक अच्छी शेप देने में मदद करता है।

कोट में लगाए लिपस्टिक

अगर आप एक ही कोट में लिपस्टिक लगाती है तो आपकी लिपस्टिक जल्द ही फीकी पड़ जाती है। इसलिए जरूरी है कि आप कम से कम 2 लेयर लिपस्टिक की अपने होठों पर जरूर लगाएं। ऐसा करना ना सिर्फ आपके होठों को अच्छा टेक्सचर देगा। बल्कि लंबे समय तक लिपस्टिक आपके होठों पर भी टिकी रहेगी।

लिपस्टिक के बाद लगाएं हल्का-सा पाउडर

होठों पर लिपस्टिक का इस्तेमाल करने के बाद लिपस्टिक को सेट करने के लिए उंगलियों की मदद से हल्का- हल्का पाउडर लगाएं। ऐसा करने से आपके लिपस्टिक होठों पर फेलेगी भी नहीं और टेक्सचर भी अच्छा आएगा।

Continue Reading

ब्यूटी टिप्स

चाहिए काले, घने और लंबे बाल ?, तो घर पर बनाएं सरसों के बीजों का हेयरमास्क ..

Published

on

By

मानसून के मौसम में बालों में डेंड्रफ, बालों का झड़ना, बालों का कमजोर होना यह सब आम बात है। हालांकि लोग कई तरह के नुस्खे आजमा कर और महंगे ट्रीटमेंट करवाकर अपने बालों को डैमेज कर लेते हैं। और बाद में पछताते हैं। लेकिन हम आपके बालों की सभी परेशानियों के लिए एक प्राकृतिक इलाज लेकर आएं हैं। और यह इलाज छुपा है सरसों के बीजों में जी हां, सरसों के बीज बालों के लिए हेयर कंडीशनर का काम करते है। साथ ही इसमें मौजूद अद्भुत तत्व बालों से डैंड्रफ को भी जड़ से खत्म करते है। आपको बता दें कि यह हेयरमास्क आपके बालों को प्रदूषण, मिट्टी से डैमेज हुए बालों से भी निजात दिलाएगा। साथ ही आपकी खोई हुई चमक को भी एक नई चमक में बदल देगा।

 हेयरमास्क बनाने की सामग्री

सरसों के बीज
– एक अंडा 
एक चम्मच बादाम का तेल

मास्क बनानें की विधि

एक कटोरी में अंडे को अच्छे से फेट लें। अब अंडे के घोल के साथ सरसों के बीजों को पीसकर और बादाम के तेल को साथ मिलाकर एक पेस्ट तैयार कर लें। अब इस पेस्ट को अच्छे से अपने बालों की जड़ों तक लगाएं। आपको इस हेयरमास्क को बालों में 30 से 40 मिनट के लिए लगाए रखना होगा। जब यह समय पूरा हो जाए तो हल्के गर्म पानी और शैंपू से अपने बालों को अच्छे से धो लें। 

Continue Reading

लाइफस्टाइल

मानसून में आपके बच्चे भी है पेट दर्द की समस्या से परेशान? तो आजमाएं यह नुस्खे…

Published

on

By

मानसून के मौसम में बच्चों में पाचन से संबंधित कई परेशानियां देखने को मिलती है। ऐसे वक्त में जरूरी है कि बच्चों को जंक फूड से दूर रखा जाए।और उन्हें केवल संतुलित आहार ही दिया जाए। लेकिन कुछ और भी बातें है जिनका ध्यान रखकर आप अपने बच्चों कि  पेट दर्द की समस्या का समाधान कर सकती हैं।यह नुस्खे ना केवल आपके बच्चों को पेट से संबंधित परेशानियों से छुटकारा दिलाएंगे। बल्कि  मानसून में होने वाली मौसमी बीमारियों से भी उन्हें दूर रखेंगे।

रोज दे नाश्ते में एक केला

केले का सेवन करना न केवल बच्चों के लिए बल्कि हर आयु वर्ग के लिए लाभदायक है। क्योंकि केले में मौजूद एसेंशियल न्यूट्रिएंट्स पाचन क्रिया को बेहतर बनाने का कार्य करते है। इसलिए रोज सुबह अपने बच्चों को नाश्ते में एक केला जरूर दें।

सेब से करें अपने बच्चों की इम्यूनिट मजबूत

मानसून का मौसम भले ही आम का हो लेकिन बेहतर होगा कि आप अपने बच्चों को आम की जगह सेब दें। क्योंकि सेब में प्रचुर मात्रा में आयरन और फाइबर पाया जाता है। तो यह आपके बच्चों के लिए एक इम्यूनिटी बूस्टिंग फूड का काम भी करेगा।साथ ही आपको बता दे सेब आसानी पचने में सहायक है।

रात के भोजन में दे सादी खिचड़ी

कुछ दिनों के लिए अपने बच्चों को अधिक मसाले, जंक फूड और तले हुए खाने से दूर रखें। और उन्हें भोजन में सादी खिचड़ी दें। यह पचाने में तो सरल होगी ही साथ- साथ स्वास्थ्य के लिए भी लाभदायक होगी।

नारियल पानी है उत्तम

नारियल पानी का सेवन करना भी बेहद  फायदेमंद होता है। साथ ही यह शरीर को हाइड्रेट करने का कार्य भी करता है। इसीलिए जरूरी है कि आप अपने बच्चो को डेली रूटीन में नारियल पानी दें। आज के कोरोना वायरस के दौर में नारियल पानी का सेवन इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए भी एक उत्तम स्रोत है।

दही चीनी खिलाएं

दही -चीनी का सेवन करना भी पेट दर्द की समस्या से निजात पाने का एक अच्छा तरीका है।

Continue Reading

घरेलू नुस्खे

40 की उम्र के बाद मेकअप करते वक्त इन बातों का रखें खास ख्याल, जनिएं मेकअप टिप्स….

Published

on

By

Makeup Tips: ढलती उम्र के साथ हमारी मेरी जरूरत है और हाथ में कई बदलाव करने पड़ते हैं क्योंकि 40 के बाद त्वचा पर कई बदलाव आते हैं। चेहरे पर झुरिया आने लगती है चेहरा हल्का-हल्का मुरझाने लगता है। ऐसे में हमें मेकअप करते वक्त कई सावधानियां बरतने की जरूरत पड़ती है। क्योंकि अगर हम अपनी त्वचा के हिसाब से मेकअप नहीं करेंगे। तो हमारा मेकअप काफी अटपटा प्रतीत होगा। तो आइए जानते हैं ऐसे क्या बदलाव करें जिनसे हम बढ़ती उम्र में भी खुद को आकर्षक दिखा सके।

लिप लाइनर का करें इस्तेमाल

जैसा कि आप जानते हैं कि बढ़ती उम्र के साथ-साथ हमारा चेहरा ढीला पड़ने लगता है। चेहरे पर भी झुर्रियां नजर आने लगती हैं। यही वजह है कि बिना लिप लाइनर के लिपस्टिक होठों पर फैलने लगती है। इसीलिए इसे रोकने के लिए जरूरी है। कि आप लिप लाइनर का प्रयोग करें।

बदले ब्लश लगाने का तरीका

आपके मेकअप में ब्लशर का इस्तेमाल सबसे अहम पड़ाव माना जाता है। लेकिन उम्र के साथ-साथ ब्लशर के तरीके में भी कई बदलाव करने पड़ते हैं। जैसे ब्लशर का इस्तेमाल चीकबोंस की ऊपरी सतह पर करें। इसे आपकी झुर्रियां दब जाएंगी और चेहरा भी कसा – कसा नजर आएगा। ब्लशर का इस्तेमाल करते हुए ध्यान रखें अपनी स्किन टोन का, और अपनी स्किन टोन को  ध्यान से रखकर ही ब्लशर के रंग का चुनाव करें।

मेकअप में करें लिक्विड प्रोडक्ट्स को शामिल

यदि आप पाउडर वाले मेकअप का प्रयोग करती हैं तो यह आपकी झुर्रियों को दबाने की जगह और ज्यादा उभारने का कार्य करता है। साथ ही आपके चेहरे को भी बहुत सूखा-सूखा लुक देता है। इसीलिए इन कमियों को पूरा करने के लिए आप अपने मेकअप में मॉइश्चराइजर वाले  लिक्विड प्रोडक्ट्स को शामिल करें। इससे आपका चेहरा आकर्षक लगेगा।

आईलाइनर का करें प्रयोग, मैट लिपस्टिक को कहे ना

अपने लुक को कंप्लीट करने के लिए आप लाइनर का प्रयोग कर सकते हैं। लेकिन ध्यान रहे कि आप मैट लिपस्टिक से दूरी बनाकर रखें। क्योंकि मैट लिपस्टिक लगाने से आपके होठ सुख जाएंगे जबकि न्यूड शेड से आपकी उम्र ज्यादा दिखेगी। इसलिए के थोड़े  हल्के रंगों का चुनाव करें। और ज्यादार लिप ग्लॉस का ही इस्तेमाल करें।

Continue Reading

ब्यूटी टिप्स

फटी एड़ियों से है परेशान? आज ही इस्तेमाल करें यह घरेलू नुस्खे…

Published

on

By

फटी एड़ियों से हर दूसरी महिला परेशान है। ज्यादार घर पर काम करने वाली महिलाएं फटी एड़ियों की परेशानी से जूझती हैं। इनको नजरअंदाज करना भी सही नहीं है। इसलिए जरूरी है कि आप अपने एड़ियों का खास ख्याल रखें। आज हम आपको आपके एड़ियों के ख्याल रखने के लिए कुछ खास घरेलू नुस्खे (home remedy) बताने जा रहे हैं। जिनकी मदद से आप फटी एड़ियों  की समस्या से निजात पा सकेंगी।

1.पेट्रोलियम जैली है रामबाण

पेट्रोलियम जैली फटी एड़ियों के लिए एक रामबाण इलाज है। इसके इस्तेमाल के लिए आपको जरूरत होगी एक चम्मच वैसलीन, फुट स्क्रब, मॉइस्चराइजर और हल्के गर्म पानी की।

इस्तेमाल की विधि

सबसे पहले अपने बारे में पैरों को गर्म पानी में 15 से 20 मिनट के लिए भिगो कर रखें। थोड़ी देर बाद अपने पैरों को फुट स्क्रब की मदद से सुखा लें। अब पैरों को मॉइस्चराइज करें।फिर वैसलीन लगाकर एक मोटी जुराब पहन कर सो जाएं। सुबह उठते ही नॉर्मल पानी से धो लें। आप रोज़ रात को सोने से पहले ऐसा कर सकती हैं।

2.शहद है प्राकृतिक इलाज

शायद आपके पटेरिया के लिए प्राकृतिक इलाज का काम करेगा। इसके इस्तेमाल के लिए आपको चाहिए  एक कप शहद और गर्म पानी।

इस्तेमाल की विधि

इस प्राकृतिक इलाज के इस्तेमाल के लिए सबसे पहले आधी बाल्टी गर्म पानी में एक कप शहद को मिला लें। अब इस पानी में 10 से 15 मिनट तक अपने पैरों को भिगोए रखें और उसके बाद पैरों को अच्छे से स्क्रब करें। आपको बता दे यह तरीका सॉफ्ट एड़ियों के लिए भी आजमाया जा सकता है।

 3.वेजिटेबल ऑयल की मदद से दूर करे फटी एड़ियों की परेशानी को

वेजिटेबल ऑयल की मदद से भी आप अपनी फटी एड़ियों का इलाज कर सकती हैं। इसके लिए बस आपको दो चम्मच वेजिटेबल ऑयल की आवश्यकता होगी।

इस्तेमाल की विधि

सबसे पहले अपने पैरों को अच्छे से धोकर साफ कर ले। और फिर रात में सोने से पहले वेजिटेबल ऑयल को अच्छे से लगाकर पैरों में जुराब पहन ले। और सुबह उठकर अपने पैरों को नार्मल पानी से धो लें।

4.केले और एवोकाडो का फुट मास्क

आपको बता दें एवोकाडो में विटामिन ए और ओमेगा फैटी एसिड्स पाए जाते हैं इन सभी तत्वों में चोट को ठीक करने की क्षमता होती है। वही केले का उपयोग आप मुझसे मॉइस्चराइजर के तौर पर कर सकते हैं। इन दोनों का मेल फटी एड़ियों को ठीक करने के लिए बिल्कुल सही है।

इस्तेमाल की विधि

केले को एवोकाडो के साथ मिक्स करके अच्छे से ब्लेंड कर लें।अब इससे बने पेस्ट को अपनी एड़ियों पर लगाएं और मसाज करें। कम से कम इस पेस्ट को 15 से 20 मिनट तक अपनी एड़ियों पर लगा रहने दें। और समय खत्म होने के बाद गर्म पानी से धो लें। आप इसका इस्तेमाल रोज भी कर सकती हैं

Continue Reading

पार्टी पद देती है, ले भी सकती है: कांग्रेस से सुलह के बाद पहली बार बोले पायलट

पायलट की शिकायतों को दूर करने के लिए बनी 3 सदस्यीय कमेटी, प्रियंका भी शामिल

संजय दत्त को दो दिन बाद मिली अस्पताल से छुट्टी – सांस लेने में तकलीफ के चलते हुए थे भर्ती

Sushant Case : 10 घंटे की पूछताछ के बाद ईडी ऑफिस से बाहर निकली रिया

एक्टर पूजा जोशी ने किया समीर शर्मा को याद, कहा अकेले रहना ठीक नही..

देर-सबेर गहलोत की कुर्सी जानी तय, पर पायलट को भी नहीं मिलेगी, ये है फार्मूला

राहुल संग पायलट मुलाक़ात पर बोली BJP- अच्छा हुआ, हमारा होटल का खर्चा बच गया

CM गहलोत से मिले पायलट कैंप के विधायक, बोले- नाराजगी दूर हो गई, सरकार सेफ

शरीर के ज़िद्दी फेट को करना दूर है?आज ही घर पर बनाएं यह आसान ड्रिंक …

32 दिनों से जारी विवाद का द एंड? राहुल-प्रियंका से मिले सचिन पायलट

बॉलीवुड1 day ago

संजय राउत ने कहा- अंकिता और सुशांत का क्यों हुआ ब्रेकअप, इसकी भी हो जांच

बॉलीवुड2 days ago

Sushant Singh Case: फ्लैटमेट सिद्धार्थ पिठानी का पकड़ा गया सबसे बड़ा झूठ, सुसाइड से पहले सुशांत सिंह….

बॉलीवुड3 weeks ago

Sushant Singh Rajput को न्याय दिलाने के लिए शुरू हुआ डिजिटल प्रोटेस्ट

राजनीति1 week ago

राजस्थान ब्रेकिंग: विधायकों के खरीद फरोख्त से जुड़ी ऑडियो FSL जांच में सही पाई गई

फिल्म रिव्यु2 weeks ago

Dil Bechara movie Review: जिंदगी को दिल खोलकर जीना सिखाती है सुशांत की आखिरी फिल्म

बॉलीवुड4 days ago

सुशांत सिंह राजपूत मामले में सूरज पंचोली ने तोड़ी चुप्पी, किया सच का खुलासा ..

उत्तर प्रदेश1 week ago

UP के बुलंदशहर में 25 जुलाई से लापता वकील की मिली लाश, प्रियंका बोलीं- UP में क्राइम-कोरोना कंट्रोल से बाहर

बॉलीवुड1 day ago

सुशांत सिंह राजपूत ने रिया चक्रवर्ती के भाई शौविक चक्रवर्ती के अकाउंट में ट्रांसफर किये थे कई लाख रुपए

मनोरंजन5 days ago

रिया के राज जान चुका था सुशांत का परिवार ! नई चैट वायरल

बॉलीवुड4 days ago

सुशांत को पागल साबित कर मेंटल हॉस्पिटल भेजना चाहती थी रिया – रिया की कॉल डिटेल्स से हुआ खुलासा

ट्रेंडिंग न्यूज़