करियर

CBSE Results 2020: यूपी के लखनऊ की दिव्यांशी जैन ने शत प्रतिशत अंक हासिल कर रचा इतिहास

Published

on

CBSE Results 2020: केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) ने तमाम उहापोह की स्थिति के बिच आज आख़िरकार 12वीं बोर्ड के नतीजे जारी कर दिए. इस बार सीबीएसई के 12वीं बोर्ड के नतीजे में यूपी के लखनऊ (Lucknow) की दिव्यांशी जैन (Divynashi Jain) अव्वल आई है. दिव्यांशी ने शत प्रतिशत अंक हासिल करके इतिहास रच दिया है.

लखनऊ के नवयुग रेडियंस स्कूल की छात्रा दिव्यांशी को 600 अंकों की परीक्षा में पूरे 600 अंक मिले हैं. दिव्यशी ने टॉप कर देश भर में सूबे की राजधानी का मान बढाया है. दिव्यांशी की इस शानदार सफलता को लेकर पूरे इलाके में हर्ष का माहौल है. और दोपहर से ही बधाइयों का तांता लगा है.

दिव्यांशी ने इतिहास, अंग्रेजी, संस्कृत, भूगोल, अर्थशास्त्र और इंश्योरेंस जैसे विषयों में शत प्रतिशत अंक पाकर यह कीर्तिमान स्थापित किया है. उनके पिता राजेश प्रकाश जैन की गणेशगंज में दुकान है.

बतौर रिपोर्ट्स, दिव्यांशी कहतीं है कि भले ही लोगों को इतिहास जैसे विषयों को पढ़ने और याद करने में दिक्कत होती है. लेकिन उन्होंने कभी विषयों को रटने को कोशिश भी नहीं की. इतिहास को कहानी के रूप में समझा. संस्कृत भी गणित के जैसे फार्मूले होते हैं. उनको याद किया. फिलहाल, दिव्यांशी ने दिल्ली विश्वविद्यालय से बीए (ऑनर्स) की पढ़ाई करने का फैसला लिया है.

ये है दिव्यांशी का रिपोर्ट कार्ड:

अंग्रेजी 100
संस्कृत 100
भूगोल 100
अर्थशास्त्र 100
इंश्योरेंस 100
इतिहास 100

बता दें कि इस बार भी लड़कियों ने लड़कों के मुकाबले बाजी मारी है. लड़कियों का उत्तीर्ण प्रतिशत लड़कों की तुलना में 5.96 प्रतिशत अधिक रहा. सीबीएसई द्वारा जारी बयान के मुताबिक, इस साल 12वीं कक्षा में परीक्षार्थियों का कुल उत्तीर्ण प्रतिशत(Passing Percentage) 88.78 रहा.

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

करियर

ऐश्वर्या श्योरान मिस इंडिया फाइनलिस्ट से ऐसे बनी IAS

Published

on

नई दिल्ली. UPSC (यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन) का परीक्षा परिणाम जारी हो चुका है. परिणाम जारी होने के बाद मिस इंडिया फाइनलिस्ट ऐश्वर्या श्योरान (Aishwarya Sheoran) कि सोशल मीडिया पर सभी लोग ब्यूटी विद ब्रेन कहकर तारीफ कर रहे हैं. ऐश्वर्या (Aishwarya Sheoran) ने यूजीसी परीक्षा में पहली बार में ही पूरे भारत में 93वां रैंक प्राप्त किया है.

आपको बता दें दिल्ली विश्वविद्यालय के नॉर्थ केंपस श्री राम कॉलेज ऑफ कॉमर्स इकोनॉमिक्स ऑनर्स की पढ़ाई कर चुकी ऐश्वर्या श्योरान (Aishwarya Sheoran) ने 19 साल की उम्र में मॉडलिंग के क्षेत्र में अपने करियर की शुरुआत की थी. 2016 में वह मिस इंडिया फाइनल लिस्ट रह चुकी है. साथ ही 2014 में एक प्रतियोगिता में फ्रेश फिश के टाइटल से भी उन्हें नवाजा जा चुका है.

सिविल सर्विस परीक्षा पास करने के बाद ऐश्वर्या (Aishwarya Sheoran) ने मीडिया को बताया कि “मेरी मां ने पूर्व मिस वर्ल्ड और अभिनेत्री ऐश्वर्या राय के नाम पर मेरा नाम रखा था. मेरी मां चाहती थी कि मैं मॉडलिंग और फैशन जगत में अपना करियर बनाऊं”. ऐश्वर्या ने यह भी बताया कि वह मिस इंडिया के 21 फाइनलिस्ट में चुन ली गई थी लेकिन उनका हमेशा से प्रशासनिक सेवा में जाने का एक सपना था. इसीलिए ऐश्वर्या ने मॉडलिंग करियर से थोड़ा ब्रेक लेकर सिविल सर्विस परीक्षा की तैयारी करना शुरू कर दिया. उन्होंने खुद पर विश्वास और अपनी मेहनत के दम पर UPSC परीक्षा में सफलता हासिल की.

ऐश्वर्या बचपन से ही पढ़ाई में काफी होशियार थी. उन्होंने यूपीएससी परीक्षा क्रेक करने के लिए कोई कोचिंग क्लास नहीं ली है. उन्होंने केवल अपनी पढ़ाई पर फोकस किया. पढ़ते वक्त वह अपना फोन ऑफ रखती और परीक्षा की तैयारी के दौरान उन्होंने सोशल मीडिया से भी दूरी बना ली थी. मात्र 10 महीने की कड़ी मेहनत के बाद ऐश्वर्या (Aishwarya Sheoran) यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन परीक्षा में पास हुई है. मिस इंडिया फाइनलिस्ट से प्रशासनिक सेवा तक पहुंचने के बाद ऐश्वर्या को सभी लोग सोशल मीडिया के माध्यम से बधाइयां दे रहे है

Continue Reading

करियर

एचआरडी मंत्रालय ने विद्यार्थियों के लिए आयोजित की निबंध प्रतियोगिता, जानिए पूरी जानकारी

Published

on

नई दिल्ली. मानव संसाधन विकास मंत्रालय की ओर से कक्षा 9वीं से 12वीं के विद्यार्थियों के लिए निबंध प्रतियोगिता का (essay competition) आयोजन किया गया है. यह निबंध प्रतियोगिता देश में स्वतंत्रा दिवस समारोह के उपलक्ष में आयोजित की जा रही है. इस आयोजन के लिए एनसीईआरटी नोडल एजेंसी होगी. मंत्रालय के द्वारा माध्यमिक और उच्च माध्यमिक स्तर के विद्यार्थियों के लिए यह ऑनलाइन निबंध लेखन प्रतियोगिता करवाई जा रही है. इस प्रतियोगिता का मुख्य विषय “आत्मनिर्भर भारत- स्वतंत्र भारत” है. इस बात की जानकारी मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने ट्वीट के माध्यम से दी.


ऐसे करें आवेदन
-सबसे पहले दिए हुए लिंक https://innovate.mygov.in/essay-competition/ पर क्लिक करें.
-उसके बाद जो पेज खुलेगा उस पर ऊपर की तरफ दाहिनी ओर Register पर क्लिक करें.
-फिर अपना पुराना नाम, मेल आईडी, जन्म दिनांक इत्यादि जानकारी भरकर निबंध प्रतियोगिता (essay competition) के लिए खुद को रजिस्टर करें.


निबंध लेखन के लिए मुख्य विषय के अंतर्गत उक्त विषय इस प्रकार है.
-आत्मनिर्भर भारत के लिए भारतीय संविधान और हमारा लोकतंत्र सबसे बड़े हिमायती हैं.
-डिजिटल भारत: कोरोना महामारी और उसके बाद अवसर.
-आत्मनिर्भर भारत: राष्ट्रीय विकास में विद्यार्थियों की भूमिका.
-आत्मनिर्भर भारत: लिंग जाति और जातीय पूर्वाग्रहों से मुक्ति.
-आत्मनिर्भर भारत: जैव विविधता और कृषि समृद्धि के माध्यम से नए भारत का निर्माण.
-आत्मनिर्भर भारत के लिए समुद्र से लेकर हरियाली संरक्षण करें.
-75 साल का भारत: आत्मनिर्भर भारत की ओर बढ़ता देश.
-एक भारत श्रेष्ठ भारत के माध्यम से आत्मनिर्भर भारत: विविधता में एकता होने पर नवाचार फलता फूलता है.
-मेरी शारीरिक तंदुरुस्ती ही मेरी दौलत है जो आत्मनिर्भर भारत के लिए मानव पूंजी का निर्माण करेगी.
-जब मैं अपने अधिकारों का प्रयोग करता हूं तो मुझे आत्मनिर्भर भारत के निर्माण में अपने कर्तव्यों का पालन करना नहीं भूलना चाहिए.

आपको बता दें निबंधों का चयन दोस्तों पर किया जाएगा. राज्य/ केंद्र शासित प्रदेश के लेवल पर निबंधों का लास्ट सिलेक्शन किया जाएगा. कक्षा नौवीं दसवीं कक्षा 11वीं 12वीं मतलब माध्यमिक चरण और उच्च माध्यमिक चरण में से 30 निबंधों का चयन एनसीईआरटी के द्वारा किया जाएगा. उसके बाद राष्ट्रीय स्तर के विजेताओं को पुरस्कृत भी किया जाएगा. आवेदन की अंतिम तारीख 14 अगस्त 2020 है. इस निबंध प्रतियोगिता से जुड़ी और अधिक जानकारी के लिए आप इस लिंक पर क्लिक https://innovate.mygov.in/essay-competition/ कर सकते हैं.

Continue Reading

करियर

यूएन महासचिव गुटेरेस ने चेताया- कोरोना से 1.6 अरब छात्र हुए प्रभावित, 2.38 करोड़ बच्चे छोड़ सकते हैं पढ़ाई

Published

on

दुनिया में कोरोना वायरस (coronavirus) से अब तक 1.82 करोड़ लोग संक्रमित हो चुके हैं, जबकि 7 लाख के करीब लोगों की मौत हो चुकी है। कोरोना से अब तक सबसे अधिक अमेरिका प्रभावित हुआ है। अमेरिका में करीब 50 लाख लोग कोरोना संक्रमित हो चुके हैं, जबकि डेढ़ लाख के करीब लोगों की मौत हो चुकी है।

अब जब कोरोना वायरस (Coronavirus) महामारी से पूरा विश्व जूझ रहा है। ऐसे में भारत समेत विश्व के कई देशों में स्कूल और कालेज बंद हैं। इस क्रम में अब हाल ही में संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने कहा है कि कोरोना वायरस वैश्विक महामारी ने इतिहास में शिक्षा के क्षेत्र में अब तक का सबसे लंबा अवरोध पैदा किया है। इस महामारी से विश्व के सभी देशों और महाद्वीपों के करीब 1.6 अरब छात्र प्रभावित हुए है।

संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने कहा है कि कोरोना के चलते अतिरिक्त 2.38 करोड़ बच्चे अगले साल स्कूल की पढ़ाई बीच में छोड़ सकते हैं। शिक्षा व्यक्तिगत विकास और समाज के भविष्य की कुंजी है। ये असमानता को दूर करती है। ये ज्ञानवान, सहिष्णु समाज के सतत विकास का प्राथमिक संचालक होती है।

Read more: 24 घंटे में 6.6 लाख से टेस्ट, मृत्यु दर सबसे कम 2.10%, कई राज्यों में टेस्टिंग दोगुनी: स्वास्थ्य मंत्रालय

संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने कहा है कि जुलाई के मध्य में 160 से अधिक देशों में स्कूल बंद कर दिए गए हैं, जिससे एक अरब से अधिक छात्र प्रभावित हुए हैं और दुनियाभर में कम से कम चार करोड़ बच्चे अपने स्कूल के शुरुआती महत्वपूर्ण समय में शिक्षा प्राप्त नहीं कर सके हैं। कोरोना वायरस वैश्विक महामारी ने शिक्षा में असमानता को बढ़ाया है। लंबे समय तक स्कूलों के बंद रहने से पढ़ाई को नुकसान से पिछले कुछ दशकों में हुई प्रगति के पिछड़ने का खतरा है।

Read more: – श्री राम के प्रति अनोखी श्रद्धा, यह समुदाय लिखवाता है अपने पूरे शरीर पर राम का नाम

संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने कहा है कि दुनिया के सामने असमानता का अस्थायी स्तर है और ऐसे में शिक्षा की हमेशा से अधिक जरूरत है। भविष्य के लिहाज से समावेशी, लचीली और अच्छी शिक्षा प्रणाली के लिए साहसिक कदम उठाने होंगे। शारीरिक रूप से अक्षम, अल्पसंख्यक, वंचित तबकों, विस्थापित और शरणार्थी छात्रों व दूरदराज के इलाकों में रहने वाले छात्रों के पिछड़ने का जोखिम अधिक है।

Continue Reading

करियर

डोनाल्ड ट्रंप ने IT पेशेवरों को दिया झटका, H-1B वीजा धारकों को नौकरी देने से रोकने संबधी आदेश पर किए हस्ताक्षर

Published

on

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने संघीय एजेंसियों द्वारा H-1B वीजा धारकों (H-1B visa) को नौकरी देने से रोकने संबधी आदेश पर हस्ताक्षर किए। ट्रंप के इस आदेश पर हस्ताक्षर करने मात्र से अमेरिका जाकर नौकरी करने के इच्छुक भारतीय आईटी पेशेवरों की उम्मीदों को बड़ा झटका लगा है। ट्रंप ने कंपनियों को निर्देश दिए कि वो अमेरिकी नागरिकों को नौकरी दें और H-1B वीजा वाले विदेशी पेशेवरों के साथ कॉन्ट्रैक्ट करने से भी बचें। आपको बता दें ट्रंप प्रशासन ने इससे पहले 23 जून को H-1B वीजा और अन्य विदेशी कार्य वीजा 2020 के अंत तक स्थगित किए थे।

हालिया आदेश पर हस्ताक्षर करते वक्त अमेरिकी राष्ट्रपति के शब्द थे- “आज मैं एक सरकारी आदेश पर हस्ताक्षर कर रहा हूं। जिससे संघीय सरकार द्वारा अमेरिकियों को नौकरी देने के नियम सरल होंगे। हम H-1B नियमन को अंतिम रूप दे रहे हैं जिससे अब किसी भी अमेरिकी कर्मचारी को बदला नहीं जाएगा। H-1B का इस्तेमाल अमेरिकियों के लिए रोजगार सृजन के लिए होगा। इसका इस्तेमाल शीर्ष ऊंचा वेतन पाने वाली प्रतिभाओं के लिए किया जाएगा। अब इसका इस्तेमाल सस्ते श्रम कार्यक्रमों तथा अमेरिका के लोगों के लिए नौकरियां समाप्त करने के लिए नहीं किया जा सकेगा। हमारा प्रशासन सस्ते विदेशी श्रम के बदले में मेहनती अमेरिकियों को नौकरी से बाहर करने की कार्रवाई को कतई बर्दाश्त नहीं करेगा।”

आखिर क्या है H-1B वीजा (What is an H-1B visa?)

भारतीय आईटी पेशेवर H-1B वीजा को काफी पसंद करते हैं क्योंकि ये एक गैर-आव्रजक वीजा है। जिससे विदेशी पेशेवरों की नियुक्ति पेशे से संबंधित अमेरिकी कंपनियों में हो सकती है। अमेरिकी कंपनियां भी सालाना हजारों पेशेवरों को चीन से भारत से अपने यहां काम करने के लिए हायर करती हैं। H-1B वीजा ही इस प्रकिया में कंपनियों और पेशेवरों की मदद करता है। H-1B वीजा की वार्षिक सीमा 65,000 की है। आदेश के बाद सभी संघीय एजेंसियां 120 दिन में ऑडिट करेंगी।

जब ट्रंप ने आदेश पर हस्ताक्षर किए तब उनके साथ नौकरियों की आउटसोर्सिंग के खिलाफ अभियान चलाने वाले कई लोग मौजूद थे। इनमें प्रमुख रूप से फ्लोरिडा के प्रोटेक्ट यूएस वर्कर्स ऑर्गेनाइजेशन की संस्थापक एवम् अध्यक्ष सारा ब्लैकवेल टेनेसी वैली अथॉरिटी में सॉफ्टवेयर इंजीनियर जोनाथन हिक्स तथा पेंसिल्वेनिया के यूएस टेक वर्कर्स के संस्थापक केविन लिन शामिल हैं।

Continue Reading

करियर

MSBSHSE 10th result: आज दोपहर 1 बजे जारी होगा महाराष्ट्र बोर्ड 10वीं का रिजल्ट, ऐसे करें चेक

Published

on

MSBSHSE 10th Result: महाराष्ट्र बोर्ड आज कक्षा 10वीं का परीक्षाफल घोषित करेगा। छात्र अपना रिजल्ट महाराष्ट्र बोर्ड के ऑफिसियल वेबसाइट mahresult.nic.in पर  चेक कर पाएंगे. महाराष्ट्र बोर्ड बुधवार यानी आज  दोपहर 1 बजे 10वीं कक्षा का परीक्षाफल जारी करेगा.

महाराष्ट्र की शिक्षा मंत्री वर्षा गायकवाड़ (Varsha Gaikwad) ने मंगलवार देर शाम को ट्वीट के माध्यम से यह जानकारी दी। इस बार 10वीं के परीक्षा में लगभग 17 लाख स्टूडेंट्स शामिल हुए थे। बता दें कि देश में काफी तेजी से फैलते कोरोना वायरस (corona virus) को देखते हुए इस बार महाराष्ट्र बोर्ड (Maharashtra Board) ने 10वीं के ज्योग्राफी की परीक्षा रद्द कर दी थी। Read more: Independence Day 2020: इस बार स्वतंत्रता दिवस समारोह को लेकर सरकार ने जारी की एडवाइजरी

ऐसे चेक करें अपना रिजल्ट-
1. महाराष्ट्र बोर्ड की ऑफिसियल वेबसाइट (mahresult.nic.in) पर जाएं.
2. 10वीं के रिजल्ट के ऑप्शन पर क्लिक करें.
3. दी गई स्थान पर अपना रोल नंबर भरें.
4. सबमिट का बटन दबाते ही आपके स्क्रीन पर परीक्षाफल खुल जाएगा.
5. भविष्य के संदर्भ के लिए रिजल्ट का फोटोकॉपी लेना न भूलें.

Continue Reading

करियर

RBSE 10th Result 2020: आज शाम 4 बजे जारी होगा 10वीं का रिजल्ट, ऐसे करें चेक

Published

on

राजस्थान बोर्ड (Rajasthan Board) के 10वीं के छात्रों का रिजल्ट का इंतजार आज खत्म होने जा रहा है। राजस्थान बोर्ड ऑफ सेकंडरी एजुकेशन (RBSE 10th result) आज शाम 4 बजे 10वीं का रिजल्ट घोषित करने जा रहा है। प्रदेश के शिक्षा मंत्री गोविन्द सिंह डोटासरा ने बीते सोमवार को ट्वीट करके जानकारी दी है कि 10वीं का रिजल्ट आज यानी 28 जुलाई को शाम 4 बजे जारी किया जाएगा।

रिजल्ट जारी होने के बाद छात्र अपना रिजल्ट बोर्ड के आधिकारिक वेबसाइट पर चेक कर पाएंगे। बता दें कि छात्र अपने बोर्ड रोल नंबर (Roll Number) की सहायता से 10वीं का रिजल्ट चेक कर पाएंगे। इस साल स्टूडेंट्स के पास अपना रिजल्ट ऑफलाइन और ऑनलाइन (Online & Offline) दोनों माध्यम से चेक करने का ऑप्शन है।

मिली जानकारी के अनुसार, 10वीं के नतीजों की घोषणा खुद राज्य के शिक्षा मंत्री गोविन्द सिंह डोटासरा (Govind Singh Dotasra) करेंगे। शिक्षा बोर्ड के अध्यक्ष प्रो. डी.पी. जारोली ने बीते सोमवार को मीडिया से खास बातचीत में बताया कि इस साल कुल 11,79,830 छात्रों ने परीक्षा दी थी। शिक्षा संकुल स्थित सभागार में 10वीं का रिजल्ट शिक्षा मंत्री डोटासरा के द्वारा जारी किया जाएगा।

Continue Reading

पार्टी पद देती है, ले भी सकती है: कांग्रेस से सुलह के बाद पहली बार बोले पायलट

पायलट की शिकायतों को दूर करने के लिए बनी 3 सदस्यीय कमेटी, प्रियंका भी शामिल

संजय दत्त को दो दिन बाद मिली अस्पताल से छुट्टी – सांस लेने में तकलीफ के चलते हुए थे भर्ती

Sushant Case : 10 घंटे की पूछताछ के बाद ईडी ऑफिस से बाहर निकली रिया

एक्टर पूजा जोशी ने किया समीर शर्मा को याद, कहा अकेले रहना ठीक नही..

देर-सबेर गहलोत की कुर्सी जानी तय, पर पायलट को भी नहीं मिलेगी, ये है फार्मूला

राहुल संग पायलट मुलाक़ात पर बोली BJP- अच्छा हुआ, हमारा होटल का खर्चा बच गया

CM गहलोत से मिले पायलट कैंप के विधायक, बोले- नाराजगी दूर हो गई, सरकार सेफ

शरीर के ज़िद्दी फेट को करना दूर है?आज ही घर पर बनाएं यह आसान ड्रिंक …

32 दिनों से जारी विवाद का द एंड? राहुल-प्रियंका से मिले सचिन पायलट

बॉलीवुड1 day ago

संजय राउत ने कहा- अंकिता और सुशांत का क्यों हुआ ब्रेकअप, इसकी भी हो जांच

बॉलीवुड2 days ago

Sushant Singh Case: फ्लैटमेट सिद्धार्थ पिठानी का पकड़ा गया सबसे बड़ा झूठ, सुसाइड से पहले सुशांत सिंह….

बॉलीवुड3 weeks ago

Sushant Singh Rajput को न्याय दिलाने के लिए शुरू हुआ डिजिटल प्रोटेस्ट

राजनीति1 week ago

राजस्थान ब्रेकिंग: विधायकों के खरीद फरोख्त से जुड़ी ऑडियो FSL जांच में सही पाई गई

फिल्म रिव्यु2 weeks ago

Dil Bechara movie Review: जिंदगी को दिल खोलकर जीना सिखाती है सुशांत की आखिरी फिल्म

बॉलीवुड4 days ago

सुशांत सिंह राजपूत मामले में सूरज पंचोली ने तोड़ी चुप्पी, किया सच का खुलासा ..

उत्तर प्रदेश1 week ago

UP के बुलंदशहर में 25 जुलाई से लापता वकील की मिली लाश, प्रियंका बोलीं- UP में क्राइम-कोरोना कंट्रोल से बाहर

बॉलीवुड1 day ago

सुशांत सिंह राजपूत ने रिया चक्रवर्ती के भाई शौविक चक्रवर्ती के अकाउंट में ट्रांसफर किये थे कई लाख रुपए

मनोरंजन5 days ago

रिया के राज जान चुका था सुशांत का परिवार ! नई चैट वायरल

बॉलीवुड4 days ago

सुशांत को पागल साबित कर मेंटल हॉस्पिटल भेजना चाहती थी रिया – रिया की कॉल डिटेल्स से हुआ खुलासा

ट्रेंडिंग न्यूज़