अन्य राज्य

बिहार के गोपालगंज में उद्घाटन के 29 दिन बाद ही ध्वस्त हो गया 263 करोड़ के लागत से बना पुल

Published

on

बिहार: सूबे के गोपालगंज के जिस पुल का उद्घाटन करते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने उत्तर बिहार के करोडों लोगों के सपनों का पुल बताया था. उस पुल का एक हिस्सा उद्घाटन के महज 29वें दिन ही ध्वस्त हो गया. तक़रीबन 8 साल में बनकर तैयार हुए पुल का 16 जून को नीतीश कुमार ने पटना से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से उद्घाटन किया था और 15 जुलाई को ही पुल का एप्रोच रोड ध्वस्त हो गया. पुल के एप्रोच रोड ध्वस्त हो जाने से चंपारण तिरहुत और सारण के कई जिलों का संपर्क टूट गया है.

गोपालगंज को चंपारण से और तिरहुत के कई जिलों को जोड़ने वाले पुल के टूट जाने से आवागमन पूरी तरह बाधित हो गया है. पुल के निर्माण में करीब 263 करोड़ की लागत आई थी.

महीने भर भी नहीं टिका सपनों का पुल

263 करोड़ के लागत से गंडक नदी पर बना सत्तर घाट पुल वैसे तो गोपालगंज को पूर्वी चंपारण से जोड रहा था लेकिन इस पुल के कारण छपरा-सीवान से लेकर गोपालगंज की दूरी पूर्वी चंपारण और मुजफ्फरपुर समेत उत्तर बिहार के कई जिलों से काफी कम हो गयी थी. लंबे इंतजार के बाद पुल के निर्माण से राज्य के लोगो ने राहत की साँस ली थी. लेकिन लगभग 8 साल में बनकर तैयार हुआ पुल एक महीने भी टिक न सका.

RCP टैक्स पूल टूटने का कारन: तेजश्वी

गंडक नदी में सामान्य उफान आने के बाद सत्तर घाट पुल के अप्रोच रोड बह जाने के बाद सूबे के नेता प्रतिपक्ष तेजश्वी यादव ने नीतीश सरकार पर हमला बोला है. उन्होंने राज्य की नीतीश सरकार पर आरोप लगते हुए कहा कि आरसीपी टैक्स के कारण बिहार में पुल टूट रहे हैं. पुल कुल किन हालातों में टूटा इसकी पूरी जांच होनी चाहिए. लेकिन उसके पहले मुख्यमंत्री नीतीश कुमार अपने मंत्री नंदकिशोर यादव पर एक्शन लें. उन्हें तुरंत मंत्री पड़ से बर्खास्त करें.

पुल टूटने पर आक्रमक तेजस्वी यादव ने कहा है कि बिहार में पुल टूटना आम बात हो गया है. इसके पहले कहलगांव में उद्घाटन के एक दिन पहले बांध टूट गया था. बिहार में चूहे बांध तोड़ देते हैं और यहां 15 साल में सरकार 55 घोटालों का रिकॉर्ड बना देती है. उन्होंने कहा है कि बिहार में आरसीपी टैक्स देकर ट्रांसफर पोस्टिंग जब तक होता रहेगा तब तक पुल टूटते रहेंगे. तेजश्वी यादव ने मांग की है कि निर्माता कंपनी को ब्लैक लिस्ट किया जाए और लागत खर्च रिकवर हो.

आपदा में पुल टूट जाते है: नंदकिशोर यादव

बतौर रिपोर्ट्स, सूबे की नीतीश सरकार में पथ निर्माण मंत्री नंद किशोर यादव ने इस बाबत कहा कि सत्तर घाट का पुल बिल्कुल सुरक्षित है. बांध के अंदर एक पुल है, जिसका सिर्फ अप्रोच रोड बह गया है. यह प्राकृतिक आपदा है. इसमें तो सड़कें बह जाती है, पुल टूट जाते हैं. 

उन्होंने कहा, सत्तरघाट पुल में 3 छोटे ब्रिज हैं. सत्तरघाट ब्रिज से 2 किलोमीटर दूर छोटे ब्रिज का अप्रोच केवल पानी के तेज बहाव से कटा है. पूरे सत्तरघाट पुल को कोई नुकसान नहीं हुआ. पानी जब बढ़ता है तो ऐसी स्थितियां पैदा होती हैं जैसे ही पानी का बहाव कम होगा, उसे ठीक किया जाएगा.

अन्य राज्य

आंध्र प्रदेश के कोविड़ सेंटर में लगी आग, 11 मरीजों की हुई मौत

Published

on

आंध्र प्रदेश. आंध्र प्रदेश के विजयवाड़ा में स्वर्ण पैलेस होटल में बनाए गए कोविड़ सेंटर में अचानक जबरदस्त आग लग गई. इस हादसे में करीब 11 लोगों की मौत हो चुकी है. कई लोग गंभीर रूप से घायल हैं इसके अलावा 30 लोगों को सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया है. यह अंदाजा लगाया जा रहा है कि मृतकों की संख्या और बढ़ सकती है फिलहाल 11 शवों को सरकारी अस्पताल में पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है. करीब 18 घायल मरीजों को नजदीक के रमेश अस्पताल में भर्ती करवाया गया है. आग लगने के बाद होटल में हड़कंप मच गया. मौके पर फायर ब्रिगेड और एंबुलेंस पहुंची.

जिले के कलेक्टर मोहम्मद इम्तियाज ने बताया कि इस होटल का इस्तेमाल कोविड़ फैसिलिटी के रूप में किया जा रहा था. यह हादसा रविवार सुबह करीब 5:00 बजे हुआ था. पूरी बिल्डिंग को खाली करने का कार्य चल रहा है. हादसे के वक्त कोविड़ सेंटर में 40 मरीज और 10 मेडिकल स्टाफ की कर्मचारी मौजूद थे. प्राथमिक रिपोर्ट के अनुसार आग लगने की मुख्य वजह शॉर्ट सर्किट है लेकिन इसकी जांच करने पर ही आग लगने के सही कारणों का पता चलेगा.

राज्य सरकार ने हॉस्पिटल में जान गवाने वाले मरीजों के परिजनों को मुआवजे के तौर पर 50-50 लाख रुपए की राशि देने की घोषणा की है साथ ही घायलों को अच्छा इलाज दिलाने की घोषणा की है.  

आग लगने की इस घटना पर राज्य के मुख्यमंत्री जगनमोहन रेड्डी ने दुख और शोक प्रकट किया है. मुख्यमंत्री ने वरिष्ठ अधिकारियों से बात करके दुर्घटना के कारणों की जानकारी ली. साथ ही संबंधित अधिकारियों को बचाव के उपाय करने और आसपास के अस्पतालों में सभी घायलों को भर्ती करवाने के निर्देश दिए.

आपको बता दें इससे पहले 6 अगस्त को अहमदाबाद के नवरंगपुरा इलाके में भी कोरोना से संक्रमित मरीजों के लिए बनाए गए कोविड़ सेंटर में इसी प्रकार आग लग गई थी जिसमें आठ कोरोना मरीजों की मौत हुई थी.

Continue Reading

अन्य राज्य

Lockdown: महाराष्ट्र के बाद तमिलनाडु में भी 31 अगस्त तक बढ़ा, ये है गाइडलाइन्स

Published

on

By

Lockdown in Tamilnadu: देशभर में कोरोना वायरस के तेजी से बढ़ते मामलों के बिच पहले महाराष्ट्र और अब तमिलनाडु में भी उसी तर्ज पर लॉकडाउन के अवधि को बढ़ा दिया गया है. तमिलनाडु में लॉकडाउन को 31 अगस्त तक बढ़ा दिया गया है. इस दौरान रविवार को प्रदेश में पूरी तरह से लॉकडाउन लागू रहेगा. हालाँकि इस दौरान कई चीजों पर लगी पाबंदियों को हटाया भी गया है. बता दें कि इससे पहले बुधवार रात को देश में कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित राज्य महाराष्ट्र में भी राज्य सरकार ने लॉकडाउन (Lockdown) को 31 अगस्त तक बढ़ा दिया है.

तमिलनाडु में इस लॉकडाउन एक्सटेंशन(Lockdown Extension) के दौरान वैसे संस्थान जो मौजूदा वक्त में 50 फीसदी स्टाफ के साथ ऑफिस में काम कर रहे हैं. उन्हें यह संख्या 75 फीसदी तक करने की छूट दी गई है. राज्य सरकार ने इसको लेकर जारी किये गए नए एडवाइजरी में बताया है कि इस लॉकडाउन में खासकर सख्ती सिर्फ कंटेंमेट जोन में लागू की गई है.

राज्य सरकार की ओर से जारी किये गए एडवाइजरी में कहा गया है कि एक अगस्त से बिना एसी वाले होटलों में 50 फीसदी कैपेसिटी के साथ लोगों को खाना खिलाया जा सकता है. हालांकि इस दौरान होटल प्रबंधन को सोशल डिस्टेंसिंग सुनिश्चित करने की हिदायत दी गई है. अगर समय की बात करें तो सुबह छह बजे से शाम सात बजे तक होटल में खाना खाने की छूट होगी. जबकि रात नौ बजे तक होम डिलीवरी भेजा जा सकेगा. इसके बाद होटल संचालन करने पर रोक लगाईं गई है.

इसके अलावा धार्मिक स्थलों का जिक्र करते हुए राज्य सरकार ने एडवाइजरी में बताया है कि सभी मंदिर, मस्जिद और चर्च, जिनकी रेवेन्यू 10,000 से कम है वो लोगों के लिए खोले जा सकते हैं. हालांकि इस दौरान उन्हें सभी मानक संचालन प्रक्रियाओं (SOP) को फॉलो करना होगा. जिसमे मास्क पहनने से लेकर सोशल डिस्टेंसिंग तक के तमाम एहतियाती कदम शामिल है.

सूबे की पलानीस्वामी सरकार ने लॉकडाउन को लेकर जारी गाइडलाइन्स में कहा है कि सब्जी की दुकानें शाम सात बजे तक खोली जा सकेंगी. जबकि फर्नीचर, टैक्सटाइल और अन्य अकेली दुकानों को ही इसी वक़्त तक खोलने की इजाजत मिलेगी. जबकि इस दौरान शौपिंग मॉल्स पर पाबंदी जारी रहेगा.

पिछले 24 घंटे में कोरोनावायरस के रिकॉर्ड तोड़ नए मामले

भारत में कोरोना वायरस का कहर दिनोंदिन कम होने के सिवाय बढ़ते ही जा रहा है. गुरुवार को कोरोनावायरस ने देश में नए मामले के अब तक के सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए है. पिछले 24 घंटे में 52 हजार से भी अधिक मामले सामने आये है. जबकि इतने ही समय में 775 मरीजों की इस वायरस के चपेट में आने से मौत हुई है.

यह भी पढ़ें: कोरोना ने तोड़े अब तक के सारे रिकॉर्ड, पिछले 24 घंटे में 52,000 से भी अधिक मामले

Continue Reading

अन्य राज्य

लालू यादव की कोविड-19 रिपोर्ट निगेटिव, 5 दिन बाद फिर होगी जांच

Published

on

  • रांची के रिम्स में बीते शनिवार को लालू यादव (Lalu Prasad Yadav) का लिया गया था कोरोना सैंपल
  • कोरोना रिपोर्ट निगेटिव आने से डॉक्टरों ने ली राहत की सांस

राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव की कोविड-19 टेस्ट रिपोर्ट (lalu yadav covid 19 report) आ गई है। उन्‍हें कोरोना वायरस संक्रमण नहीं हुआ है। वे अब पूरी तरह से सुरक्षित हैं। बीते रविवार को झारखंड की राजधानी रांची के रिम्‍स की ओर से जारी किए गए जांच रिपोर्ट में बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव कोरोना निगेटिव (corona negative) मिले हैं।

वहीं रिम्‍स में उनके साथ रह रहे एक सेवादार में कोविड-19 संक्रमण की पुष्टि की गई है। ऐसे में आरजेडी सुप्रीमो लालू यादव अब भी खतरे से ज्यादा दूर नहीं कहे जा सकते। मिली जानकारी के अनुसार यह सेवादार लगातार लालू यादव के आसपास था। अगर सेवादार कोविड-19 पॉजिटिव (Lalu Yadav Corona Negative) मिला, तो 3-4 दिनों बाद दोबारा लालू प्रसाद यादव की कोविड-19 टेस्ट की जाएगी।

बता दें कि, रांची स्थित रिम्स (RIIMS) में भर्ती बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू यादव के पेइंग वार्ड के बगल में ही कोरोना वार्ड और आइसोलेशन वार्ड बनाया गया है. इसे लेकर लालू यादव (Lalu Prasad Yadav) के परिवार ने कई बार अस्पताल से शिकायत कर चुके हैं. आरजेडी सुप्रीमो लालू यादव पिछले एक सप्ताह से रांची के रिम्स में भर्ती है. मिली जानकारी के अनुसार लालू यादव दिल की बीमारी और शुगर (Diabetes) से पीड़ित हैं. उन्हें किडनी संबंधी भी बीमारी है जिसका इलाज झारखंड के रिम्स (RIIMS) में चल रहे हैं.

झारखंड में कोरोना का कहर जारी-

झारखंड में कोरोना वायरस संक्रमण (Corona virus cases in Jharkhand) का कहर काफी तेजी से बढ़ता जा रहा है। पिछले 24 घंटों के दौरान राज्य में कोरोना के कुल 553 नए केस सामने आए। जबकि इस गंभीर महामारी के चलते 5 लोगों की मौत हो गई।

Continue Reading

अन्य राज्य

बिहार और असम में बाढ़ ने मचाई तबाही, लाखों लोग बेघर, अब तक 20 लोगों की मौत

Published

on

Bihar News: औसत से अधिक बारिश ने असम और बिहार में एख बार फिर से कहर बरपा दिया है जहां लाखों लोग तेज बारिश और बाढ़ (Flood) की चपेट में पिछले कई दिनों से फंसे हुए हैं. केंद्रीय जल आयोग के चेयरमैन ने मीडिया से खास बातचीत में बताया कि बिहार (Bihar Flood) के लगभग 9 और असम के करीब 18 जिलों में तेज बारिश और बाढ़ के पानी से हाहाकार मचा हुआ है.

बता दें कि, असम और बिहार (Flood in Bihar & Assam) में आई इस भयंकर बाढ़ ने लाखों लोगों को घर से बेघर कर दिया है. देशभर में काफी तेजी से फैलते कोरोना वायारस संक्रमण के दौरान आए इस गंभीर आपदा ने लोगों की मुश्किलें और भी बढ़ा दी हैं. मीडिया से इसपर बातचीत करते हुए केंद्रीय जल आयोग के चेयरमैन आरके जैन ने कहा कि बिहार और असम में बाढ़ और तेज बारिश (Heavy Rain & Flood) से हालत काफी चिंताजनक है. अगर जल्द ही कोई कदम नहीं उठाया गया तो यह विकराल रुप भी ले सकता है.

गोरखपुर में हाहाकार

मिली जानकारी के अनुसार, गोरखपुर में सरयू, रोहिन और राप्ती में काफी तेजी से बढ़ते जलास्तर कहर बरपाने लगी है। गोरखपुर (Gorakhpur) के कुछ इलाकों पर बांधों पर दबाव भी काफी तेज हो गया है। बता दें कि जिले के कुल 63 गांव बाढ़ के पानी में पूरी तरह घिर गए हैं। प्रभावित गांववासियों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा हैं।

उत्तराखंड में तेज बारिश और बाढ़ की चेतावनी

भारतीय मौसम विभाग ने उत्तराखंड में 28 और 29 जुलाई को भारी बारिश और तुफान के लिए ऑरेंज अलर्ट (Orange Alert) जारी किया है। विज्ञान केंद्र के निदेशक बिक्रम सिंह ने बीते रविवार को मीडिया से खास बातचीत में बताया कि, आज यानी 27 जुलाई को ऊधमसिंह नगर, नैनीताल और चंपावत जिलों में तेज बारिश (Heavy Rain) हो सकती है। वहीं 28 जुलाई को राज्य के बागेश्वर, नैनीताल, पिथौरागढ़, चंपावत, ऊधमसिंह और पौड़ी नगर में भारी बारिश हो सकती है। प्रदेश (Uttarakhand Flood) में भारी बारिश के चलते 109 सड़कों को कुछ दिनों के लिए बंद कर दिया गया हैं।

Continue Reading

Politics

मध्यप्रदेश में उपचुनाव से पहले कांग्रेस को एक और झटका, मांधाता विधायक ने इस्तीफा दिया

Published

on

By

मध्‍य प्रदेश में उप चुनाव की सियासी सरगर्मियों के बिच कांग्रेस पार्टी को फिर से एक बड़ा झटका लगा है. इस बार कांग्रेस छोड़ बीजेपी का दामन थामने वाले मांधाता सीट से नारायाण पटेल निकले. उनके इस्तीफा देने से पहले ही प्रदेश के सियासी गलियारों में इसकी चर्चा तेज हो गई थी. पार्टी के कई भी बड़े नेताओ को इस बात की इनपुट मिल गई थी कि नारायण बीजेपी में शामिल हो सकते है. और अंततः वही हुआ. बता दें कि नारायण पटेल के इस्तीफे के साथ ही पिछले 4 महीनों में कांग्रेस छोड़ बीजेपी में जाने वाले विधायकों की संख्या 25 हो गई है.

2018 विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के टिकट पर मांधाता सीट से विधायक चुने गए पटेल ने अपना इस्तीफा प्रोटेम स्पीकर रामेश्वर शर्मा को सौंप दिया. प्रोटेम स्पीकर ने उनका इस्तीफा स्वीकार भी कर लिया है. कांग्रेस से इस्‍तीफा देने के बाद उन्‍होंने सीएम शिवराज सिंह चौहान से मुलाक़ात की. इसके बाद शाम को उन्‍होंने भारतीय जनता पार्टी की सदस्‍यता ली. नारायण पटेल के बीजेपी में एंट्री के वक़्त पार्टी के प्रदेश इकाई के अध्‍यक्ष वीडी शर्मा, शिवराज सिंह सहित प्रदेश बीजेपी के कई दिग्गज नेता मौजूद रहे.

भाजपा में शामिल होने के बाद मीडिया से बातचीत में पटेल ने कहा कि वे क्षेत्र के विकास के लिए भाजपा में शामिल हुए हैं. हालाँकि बुधवार को कांग्रेस विधायकों के लगातार पार्टी छोड़कर जाने से परेशान पार्टी नेता उस समय सहम गए थे जब खबर उड़ी थी कि खंडवा जिले के मांधाता विधायक नारायण पटेल भाजपा नेताओं के संपर्क में हैं. उनसे मोबाइल से भी किसी कांग्रेस नेता का संपर्क नहीं हो पा रहा था तो नेताओं की धड़कनें ज्यादा बढ़ गईं और उनके स्वजनों से संपर्क कर नारायण पटेल के बारे में जानकारी जुटाई गई.

रिपोर्ट्स बताते है कि कांग्रेस के मांधाता विधायक नारायण पटेल के बारे में पार्टी नेताओं को बुधवार को सूचना दी गई कि उनसे संपर्क नहीं हो पा रहा है. वे भाजपा नेताओं के संपर्क में थे और इसके बाद आज न उनसे घर पर संपर्क हो पा रहा है, न मोबाइल से ही बात हो पा रही है. प्रदेश कांग्रेस कमेटी द्वारा अपने विधायकों से लगातार संपर्क में रहने की जिम्मेदारी संभाल रहे वरिष्ठ विधायक व पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा ने भी उनसे संपर्क करने का प्रयास किया मगर उनकी भी पटेल से बात नहीं हो सकी. बाद में कांग्रेस के एक बड़े नेता की बात हुई. लेकिन इसका कोई नतीजा नहीं निकल सका. और पटेल ने बीजेपी का दामन थाम लिया.

उल्लेखनीय है कि पिछले 4 महीनों में विधायकी और कांग्रेस पार्टी से 25 विधायकों ने इस्तीफा दे दिया है. बीते दो हफ़्तों में 3 विधायकों ने इस्तीफा दिया है. और इस तरह 2018 विधानसभा चुनाव में 114 सीटें जीतकर राज्य में सिंगल लार्जेस्ट पार्टी बनकर उभरी कांग्रेस के पास अब महज 89 विधायक ही बचे है. इस्तीफा देने वाले सभी विधायकों ने बीजेपी ज्वाइन किया है. और कयास लगाये जा रहे है कि ये सभी नेता बीजेपी के तरफ से उपचुनाव में उम्मीदवार होंगे. बहरहाल, नारायण पटेल के बाद ये साफ़ हो गया है कि अब राज्य में 27 सीटों पर विधानसभा उपचुनाव होंगे.

Continue Reading

Politics

राजस्थान सरकार ने फ़ोन टैपिंग मामले में गृह मंत्रालय को दिए रिपोर्ट में क्या कहा?

Published

on

By

राजस्थान के सियासत में हर दिन घटनाक्रम बदल रहे है. जहाँ एक तरफ प्रदेश में राजनितिक संकट गहराया है और गहलोत सरकार बचाने की कवायद है. वहीं दुसरे तरफ राज्य से लेकर केंद्रीय एजेंसियों के जांच को लेकर राजस्थान केंद्र में बना हुआ है. कुछ दिनों पहले विधायकों की खरीद-फरोख्त से जुड़े वायरल ऑडियो मामले में एक केंद्रीय मंत्री के नाम आने के बाद राज्य और केंद्र में टकराव के हालात बने हुए है. कथित ऑडियो टेप को लेकर गृह मंत्रालय ने राज्य सरकार से जवाब तलब किया था. जिस पर अब राजस्थान सरकार ने गृह मंत्रालय को रिपोर्ट भेज दी है.

राज्य सरकार द्वारा गृह मंत्रालय को भेजी गयी रिपोर्ट में फोन टेपिंग का आधार और इनपुट्स सहित अन्य कई पहलुओं के बारे में विस्तृत ब्यौरा दिया गया है. बतौर रिपोर्ट्स, राज्य सरकार ने अपनी रिपोर्ट में सफाई देते हुए पूरी प्रक्रिया में पारदर्शिता बरते जाने की बात कही है.

रिपोर्ट में राज्य सरकार ने साफ़ किया है कि इस प्रकरण में केंद्रीय मंत्री या किसी राजनीतिक व्यक्ति का फोन टेप नहीं किया गया है. इसके साथ ही राज्य ने यह भी स्पष्ट किया है कि इस प्रकरण में केंद्रीय मंत्री या किसी राजनीतिक व्यक्ति का फोन टेप नहीं किया गया है.

इस सब के बीच वायरल ऑडियो मामले में राजस्थान एसओजी ने भी जांच का रफ़्तार तेज कर दिया है. दो दिन पहले एसओजी ने दिल्ली स्थित केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत के निवास पर एक नोटिस भेजकर पूरे मामले की जाँच में सहयोग की अपील की थी. लेकिन केंद्रीय मंत्री शेखावत ने ऑडियो की प्रमाणिकता पर ही सवाल उठाते हुए वॉइस सैंपल देने से इंकार कर दिया था.

क्या है पूरा मामला?

बीते हफ्ते मरुधरा की सियासी हलचल उस वक़्त भूचाल में तब्दील हो गई थी. जब 16 जुलाई को विधायकों की खरीद-फरोख्त से जुड़े तीन ऑडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गए. वायरल ऑडियो में संजय जैन, केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत और कांग्रेस विधायक भंवरलाल शर्मा का नाम सामने आया था. जिसके बाद कांग्रेस के चीफ व्हिप महेश जोशी ने भंवरलाल शर्मा, गजेंद्र सिंह और संजय जैन के खिलाफ एसओजी में शिकायत दी थी. शिकायत मिलने के बाद एसओजी ने मामले में दो एफआईआर दर्ज किया था.

पूरे मामले में दो एफआईआर दर्ज करने के बाद जांच के लिए 18 जुलाई को एसआईटी का गठन कर दिया गया. पूरे मामले की तहकीकात क्राइम ब्रांच और एटीएस-एसओजी की टीमें संयुक्त रूप से कर रही है.

Continue Reading

पार्टी पद देती है, ले भी सकती है: कांग्रेस से सुलह के बाद पहली बार बोले पायलट

पायलट की शिकायतों को दूर करने के लिए बनी 3 सदस्यीय कमेटी, प्रियंका भी शामिल

संजय दत्त को दो दिन बाद मिली अस्पताल से छुट्टी – सांस लेने में तकलीफ के चलते हुए थे भर्ती

Sushant Case : 10 घंटे की पूछताछ के बाद ईडी ऑफिस से बाहर निकली रिया

एक्टर पूजा जोशी ने किया समीर शर्मा को याद, कहा अकेले रहना ठीक नही..

देर-सबेर गहलोत की कुर्सी जानी तय, पर पायलट को भी नहीं मिलेगी, ये है फार्मूला

राहुल संग पायलट मुलाक़ात पर बोली BJP- अच्छा हुआ, हमारा होटल का खर्चा बच गया

CM गहलोत से मिले पायलट कैंप के विधायक, बोले- नाराजगी दूर हो गई, सरकार सेफ

शरीर के ज़िद्दी फेट को करना दूर है?आज ही घर पर बनाएं यह आसान ड्रिंक …

32 दिनों से जारी विवाद का द एंड? राहुल-प्रियंका से मिले सचिन पायलट

बॉलीवुड1 day ago

संजय राउत ने कहा- अंकिता और सुशांत का क्यों हुआ ब्रेकअप, इसकी भी हो जांच

बॉलीवुड2 days ago

Sushant Singh Case: फ्लैटमेट सिद्धार्थ पिठानी का पकड़ा गया सबसे बड़ा झूठ, सुसाइड से पहले सुशांत सिंह….

बॉलीवुड3 weeks ago

Sushant Singh Rajput को न्याय दिलाने के लिए शुरू हुआ डिजिटल प्रोटेस्ट

राजनीति1 week ago

राजस्थान ब्रेकिंग: विधायकों के खरीद फरोख्त से जुड़ी ऑडियो FSL जांच में सही पाई गई

फिल्म रिव्यु2 weeks ago

Dil Bechara movie Review: जिंदगी को दिल खोलकर जीना सिखाती है सुशांत की आखिरी फिल्म

बॉलीवुड4 days ago

सुशांत सिंह राजपूत मामले में सूरज पंचोली ने तोड़ी चुप्पी, किया सच का खुलासा ..

उत्तर प्रदेश1 week ago

UP के बुलंदशहर में 25 जुलाई से लापता वकील की मिली लाश, प्रियंका बोलीं- UP में क्राइम-कोरोना कंट्रोल से बाहर

बॉलीवुड1 day ago

सुशांत सिंह राजपूत ने रिया चक्रवर्ती के भाई शौविक चक्रवर्ती के अकाउंट में ट्रांसफर किये थे कई लाख रुपए

मनोरंजन5 days ago

रिया के राज जान चुका था सुशांत का परिवार ! नई चैट वायरल

बॉलीवुड4 days ago

सुशांत को पागल साबित कर मेंटल हॉस्पिटल भेजना चाहती थी रिया – रिया की कॉल डिटेल्स से हुआ खुलासा

ट्रेंडिंग न्यूज़